चीन ने बनाया कृत्रिम सूरज, होगा असली सूरज से 10 गुना ज्यादा ताकतवर

artificial sun,china,moon

चैतन्य भारत न्यूज

बीजिंग. चीन के वैज्ञानिकों ने एक कृत्रिम सूर्य का निर्माण किया है जो असली सूरज की तरह ही प्रकाशमान होगा। इसे एक्सपेरिमेंटल एडवांस्ड सुपरकंडक्टिंग टोकामक नाम दिया गया है। चीन ने जो कृत्रिम सूरज विकसित किया है वो परमाणु फ्यूजन की मदद से 10 गुना ज्यादा स्वच्छ ऊर्जा पैदा करने में सक्षम होगा।



जानकारी के मुताबिक, कृत्रिम सूरज का प्लाज्मा मुख्य रूप से इलेक्ट्रॉनों और आयनों से बना होता है। यह सौर मंडल के मध्य में स्थित किसी तारे की तरह ही ऊर्जा का भंडार उपलब्ध कराएगा। इसका निर्माण चीन के नेशनल न्यूक्लियर कॉर्पोरेशन ने साउथ वेस्टर्न इंस्टीट्यूट ऑफ फिजिक्स के साथ मिलकर किया है।

इसे बनाने वाले वैज्ञानिकों का कहना हैं कि ‘पूरी तरह से सक्रिय होने पर रिएक्टर सूरज की तुलना में 10 गुना अधिक तापमान तक पहुंचने में सक्षम होगा जो लगभग 200 मिलियन डिग्री सेल्सियस तक पहुंचेगा। हमारे सूर्य का अधिकतम तापमान 15 मिलियन डिग्री सेल्सियस है।’

उन्होंने बताया कि, दुनिया में इस वक्त न्यूक्लियर फिजन (परमाणु संलयन) के जरिए ऊर्जा पैदा की जा रही है। परमाणु फ्यूजन संचित परमाणु ऊर्जा को फ्यूज करने के लिए बाध्य करते हैं और इस प्रक्रिया में एक टन गर्मी उत्पन्न होती है। परमाणु संलयन वास्तव में सूर्य पर होता है और यही चीन के एचएल-2 एम के निर्माण का आधार है।

ये भी पढ़े…

50 साल पहले आज ही के दिन इंसान ने चांद पर रखा था पहला कदम, जानिए अपोलो-11 मिशन की पूरी कहानी

चांद पर काले दाग क्यों? चंद्रयान-2 ने तस्वीर भेजकर खोला राज

चंद्रयान-2 के ऑर्बिटर ने भेजी चांद की तस्वीर, इसरो ने बताया- चांद की मिट्टी में मौजूद कणों के बारे में पता लगा

Related posts