10वें दिन भी अरुण जेटली की हालत में कोई सुधार नहीं, दिया ECMO और IABP सपोर्ट

arun jaitley

चैतन्य भारत न्यूज

बीजेपी के वरिष्ठ नेता और पूर्व वित्त मंत्री अरुण जेटली की हालत अब भी बेहद नाजुक बनी हुई है। उनका हाल जानने के लिए पक्ष और विपक्ष के नेता लगातार दिल्ली के एम्स अस्पताल में पहुंच रहे हैं। अब उन्हें एक्स्ट्राकोर्पोरियल मेंब्रेन ऑक्सिजनेशन (ECMO) और इंट्रा-एओर्टिक बैलून पंप (IABP) सपोर्ट दिया गया है।

मरीज को ईसीएमओ पर तब रखा जाता है जब उनके दिल और फेफड़े ठीक से काम नहीं करते और उन्हें वेंटीलेटर का भी फायदा नहीं होता है। इसके जरिए मरीज के शरीर में ऑक्सीजन पहुंचाया जाता है। रविवार देर रात जेटली का हाल जानने के लिए केंद्रीय मंत्री जितेंद्र सिंह एम्स पहुंचे। उनसे पहले रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, बीजेपी सांसद गौतम गंभीर, स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन, अश्विनी कुमार चौबे, भाजपा सांसद राज्यवर्धन सिंह राठौर, दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत भी जेटली को देखने के लिए एम्स पहुंचे थे।

बता दें 9 अगस्त को अचानक तबियत बिगड़ने के बाद जेटली को एम्स में भर्ती कराया गया था। इलाज के साथ-साथ देशभर में उनके लिए दुआएं भी मांगी जा रही हैं। पिछले साल मई में जेटली का किडनी ट्रांसप्लांट हुआ था। इसके बाद उनके बाएं पैर में सॉफ्ट टिशू कैंसर हो गया। इसकी सर्जरी के लिए जेटली 2019 की शुरुआत में अमेरिका भी गए थे। स्वास्थ ठीक न होने के कारण उन्होंने आम चुनाव 2019 भी नहीं लड़ा था और साथ ही जेटली ने मंत्रिमंडल में भी शामिल होने से भी इनकार कर दिया था।

ये भी पढ़े… 

अरुण जेटली की हालत बेहद नाजुक, वेंटीलेटर से हटाकर ECMO में किया गया शिफ्ट

तबीयत खराब होने के बाद एम्स में भर्ती हुए अरुण जेटली, उपराष्ट्रपति नायडू ने दी सेहत की जानकारी

शपथ ग्रहण समारोह से एक दिन पहले जेटली ने पीएम मोदी को चिट्ठी लिखकर कहा- नहीं चाहिए मंत्री पद

Related posts