जॉनसन बेबी पाउडर में मिला कैंसर कारक तत्व, अमेरिका में कंपनी ने वापस मंगाए 33 हजार डिब्बे

johnson baby powder

चैतन्य भारत न्यूज

न्यूयॉर्क. बेबी प्रोडक्ट बनाने वाली अमेरिकी कंपनी जॉनसन एंड जॉनसन एक बार फिर सवालों के घेरे में है। कंपनी ने अपने प्रोडक्ट ‘Johnson’s baby powder’ की कुछ बोतलों को वापस मंगाने का फैसला किया है। सूत्रों के मुताबिक, इन पाउडर के नमूनों में एस्बेस्टस की मात्रा का पता लगा है। कंपनी ने शुक्रवार को यह जानकारी दी।


क्या होता है एस्बेस्टस?

बता दें एस्बेस्टस एक घातक रसायन होता है, जिससे इंसानों में कैंसर के बढ़ने का खतरा होता है। पहली बार अमेरिका के स्वास्थ्य नियामकों ने किसी प्रोडक्ट में एस्बेस्टस की मात्रा का पता लगाया है। इसके बाद कंपनी ने 33 हजार बेबी पाउडर के बोतलों को बाजार से वापस मंगाया है। सूत्रों के मुताबिक, पाउडर में कैंसरकारक तत्व की मौजूदगी को महीनों तक नकारने के बाद अब कंपनी ने कहा है कि, ‘ऑनलाइन रिटेलर से खरीदे गए बेबी पाउडर सैंपल में क्राइसोटाइल एस्बेस्टस का पता चला है।’ कंपनी ने आगे कहा कि, ‘उसने अमेरिका में प्रॉडक्ट वापसी का कदम एहतियात (Precaution) के तौर पर उठाया है। क्योंकि पिछले 40 साल में हजारों टेस्ट ने बार-बार इस बात कि पुष्टि की है कि हमारे पाउडर में एस्बेस्टस नहीं है।’ कंपनी के मुताबिक, इसकी जांच में 30 या उससे अधिक दिन लग सकते हैं।

कंपनी के शेयर में आई गिरावट 

बता दें जॉनसन एंड जॉनसन बेबी पाउडर की एक बोतल के नमूने में क्राइसोटाइल एस्बेस्टस जिसका स्तर( जिसे 0.0002%) से अधिक नहीं होना चाहिए, इससे अधिक पाया गया है। इस खबर के सामने आने के बाद अमेरिकी शेयर बाजार में जॉनसन एंड जॉनसन कंपनी के शेयर 6 फीसदी तक लुढ़क गए और 127.70 डॉलर के भाव पर बंद हुए। गौरतलब है कि, यह कोई पहली बार नहीं है, बल्कि इससे पहले भी कंपनी पर यह आरोप लगते रहे हैं कि, उनके पाउडर में कैंसरकारक तत्व मौजूद हैं। जॉनसन एंड जॉनसन कंपनी के खिलाफ हजारों लोगों ने केस भी किया है कि उन्हें बेबी पाउडर की वजह से मेसोथेलिओमा हो गया, जोकि एक आक्रमक कैंसर है। इसके लिए उन्होंने भी एस्बेस्टस को जिम्मेदार बताया था।

भारत में भी उठे हैं सवाल

जॉनसन एंड जॉनसन के बेबी शैंपू में भारत में भी कैंसरकारी तत्व पाए गए थे। अप्रैल में ही राजस्थान ड्रग कंट्रोल की रिपोर्ट में इस बात का खुलासा हुआ था। रिपोर्ट में कंपनी के बेबी शैंपू में कैसरकारक तत्वों की मौजूदगी पाई गई, जिनसे बच्चों में कैंसर होने का खतरा बढ़ गया था। इसके बाद राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग ने राजस्थान के ड्रग कंट्रोलर की रिपोर्ट के आधार पर एक ऑर्डर जारी कर सभी राज्यों और क्या होता है केंद्र शासित प्रदेशों के मुख्य सचिव को जॉनसन एंड जॉनसन के बेबी शैंपू की बिक्री को अगले नोटिस तक रोकने को कहा था। इसके साथ ही सभी प्रोडक्ट्स को बाजार से हटाने का आदेश दिया था।

Related posts