ASCI को भ्रामक विज्ञापनों की मिली 231 शिकायतें, इनमें आइफोन एक्सएस और टैंग समेत 132 शिकायत सही

asci,tetley green tea

चैतन्य भारत न्यूज

विज्ञापन नियामक ‘भारतीय विज्ञापन मानक परिषद’ (एएससीआई) ने मई में 132 विज्ञापनों के खिलाफ आईं शिकायतों को सही बताया है। इसमें टैंग, आइफोन एक्सएस और टेटले ग्रीन टी समेत और भी कई अन्य कंपनियों के विज्ञापन भ्रामक पाए गए।

132 शिकायतें सही

एएससीआई ने बताया कि, उन्हें मई में 231 विज्ञापनों के खिलाफ शिकायतें मिली थी। इसमें से उन्होंने 67 शिकायतों को खारिज कर दिया था। एएससीआई के अंतर्गत स्वतंत्र तौर पर काम करने वाली उपभोक्ता शिकायत परिषद (सीसीसी) ने इनमें से 164 विज्ञापनों का विश्लेषण किया। इसके बाद उन्होंने पाया कि 132 विज्ञापनों के खिलाफ की गई शिकायतों सही है। रिपोर्ट्स के मुताबिक, इसमें 69 शिकायतें शिक्षा, 41 स्वास्थ्य, 2 सौंदर्य प्रसाधन, 4 खाद्य एवं पेय और 16 शिकायतें अन्य श्रेणियों के विज्ञापनों से जुड़ी हैं। एएससीआई ने अपनी रिपोर्ट में एपल के आइफोन एक्सएस, संतूर एलो फ्रेश साबुन और कई अन्य भी विज्ञापनों को भ्रामक पाया है।

चिंताजनक है टैंग का विज्ञापन

मॉन्डलेज इंडिया के प्रोडक्ट टैंग के विज्ञापन में यह दावा किया गया है कि दिनभर में बच्चों को आठ ग्लास पानी पीना चाहिए जो एक मुश्किल काम है, लेकिन टैंग से यह मुमकिन है। इस विज्ञापन के जरिए यह भ्रम फैलाया जा रहा है कि बच्चों को आठ ग्लास टैंग पीना चाहिए। एएससीआई ने इसे लेकर चिंता जाहिर की है कि, ‘यह विज्ञापन अपने प्रोडक्ट को पानी के विकल्प के तौर पर पेश करता है। इसलिए यह विज्ञापन भ्रामक है।’

विरोधाभासी है टेटले का विज्ञापन

टाटा ग्लोबल बेवरेजेज की टेटले ग्रीन टी के प्रिंट विज्ञापन में यह दावा किया गया है कि दस में से नौ लोग ऊर्जावान जीवन जीने के लिए ग्रीन टी पीना पसंद करते हैं। वहीं इसी के टीवी के विज्ञापन में ‘पसंद’ करने की जगह ‘परामर्श देने’ शब्द का इस्तेमाल किया गया है जोकि विरोधाभास को दिखाता है। साथ ही इस विज्ञापन में कोई दूसरे ब्रांड के उत्पादों के नमूने और उपभोक्ताओं के आंकड़े भी नहीं दिखाए गए हैं। इसके अलावा इस विज्ञापन को देखकर यह लगता है कि किसी भी व्यक्ति को ऊर्जावान बनाने के लिए अकेला यह उत्पाद ही काफी है, जोकि भ्रामक पाया गया।

Related posts