जन्मदिन विशेष: संगीत के इतिहास में मेलोडी क्वीन आशा भोसले के नाम दर्ज हैं कई रिकॉर्ड्स, निजी जीवन उतार-चढ़ाव से भरा रहा

चैतन्य भारत न्यूज

बॉलीवुड की मेलोडी क्वीन आशा भोसले का 8 सितंबर को जन्मदिन है। आशा ताई के नाम से मशहूर आशा भोसले ने 20 भाषाओं में अब तक 12 हजार से ज्यादा गाने गाए हैं। आशा ताई की प्रोफेशनल लाइफ में जितने उतार चढ़ाव आए, निजी जिंदगी भी कुछ ऐसी ही रही। जन्मदिन के इस खास मौके पर जानते हैं आशा ताई के बारे में खास बातें-

आशा भोसले का जन्म 8 सितंबर 1933 को हुआ था। आशा भोसले मशहूर थिएटर एक्टर और क्लासिकल सिंगर ‘दीनानाथ मंगेशकर’ की बेटी और स्वर सम्राज्ञी लता मंगेशकर की छोटी बहन हैं। उन्हें बचपन से ही गाने का शौक था। जब आशा ताई महज 9 साल की थीं तब उनके पिता का देहांत हो गया था जिसकी वजह से अपनी बहन लता मंगेशकर के साथ मिलकर उन्होंने परिवार के सपोर्ट के लिए सिंगिंग और एक्टिंग शुरू कर दी थी।

उन्होंने 1943 से अपना करियर शुरू किया और तब से वे अब तक लगातार गा रही हैं। हिंदी फिल्मों में उन्होंने गायन की शुरुआत 1948 में रिलीज हुई फिल्म ‘चुनरिया’ से की थी। हंसराज बहल के संगीत निर्देशन में उन्होंने ‘सावन आया’ गीत गाया था। मात्र 16 साल की उम्र में आशा जी ने 31 साल के गणपतराव भोसले से घर वालों के विरुद्ध जाकर भागकर शादी कर ली थी लेकिन ससुराल में माहौल सही ना होने पर पति और ससुराल को छोड़कर अपने दो बच्चों के साथ मायके चली आई थी और फिर से सिंगिंग शुरू कर दी थी।

उस जमाने में जब गीता दत्त, शमशाद बेगम और लता मंगेशकर का नाम हर तरफ हुआ करता था, आशा भोसले को वो गीत दिए जाते थे जिन्हे ये तीनो गायक छोड़ दिया करते थे। यही कारण है कि 50 के दशक में वैम्प्स, बैड गर्ल्स या सेकंड ग्रेड की फिल्मों में ज्यादातर आशा ताई गीत गाया करती थी।

आशा जी ने ओ पी नय्यर, खय्याम, रवि, सचिन देव बर्मन, राहुल देव बर्मन, इल्लिया राजा, ए। आर रहमान, जयदेव, शंकर जयकिशन, अनु मलिक, मदन मोहन जैसे मशहूर संगीतकारों के लिए भी अपनी आवाज दी है। आशा जी ने 1980 में आर डी बर्मन के साथ शादी की, यह आशा भोसले और पंचम दोनों के लिए दूसरी शादी थी। शादी के वक्त पंचम दा, आशा ताई से 6 साल छोटे थे।

आशा भोसले को 7 बार फिल्मफेयर अवॉर्ड , 2 बार नेशनल अवॉर्ड, पद्म विभूषण और दादा साहेब फाल्के अवॉर्ड से भी सम्मानित किया गया है। 1997 में आशा भोसले पहली भारतीय सिंगर बनी जिन्हे ग्रैमी अवॉर्ड्स के लिए नॉमिनेट किया गया था।

यह भी पढ़े…

जयंती विशेष: चुटकी में सुपरहिट गाने की धुन बनाने वाले पंचम दा अपने अंतिम समय में रह गए थे अकेले

 

Related posts