4 बच्चों की हत्या करने पर हुई थी मां को सजा, अब बेकसूर बताकर महिला की रिहाई की मांग कर रहे वैज्ञानिक और डॉक्टर

चैतन्य भारत न्यूज

कैनबरा. ऑस्ट्रेलिया में एक महिला अपने ही चार बच्चों की हत्या के आरोप में 18 सालों से जेल में बंद है। लेकिन 90 विज्ञानिकों की टीम अब उनकी रिहाई की मांग कर रहे हैं। ना सिर्फ वैज्ञानिक बल्कि चिकित्सा विशेषज्ञों ने भी महिला की रिहाई की गुहार लगाई है। उनका कहना है कि महिला दोषी नहीं है। इसके लिए उन्होंने मजबूत तर्क भी दिए हैं।

कैथलीन फोल्बिग नामक महिला पर साल 1990 से 1999 के बीच अपने ही चार बच्चों की हत्या का आरोप लगा था। कैथलिन फॉलबिग साल 2003 से जेल में बंद हैं। देश के करीब 90 प्रख्यात वैज्ञानिकों द्वारा हस्ताक्षरित एक याचिका ऑस्ट्रेलियाई अकादमी ऑफ साइंस द्वारा दायर की गई है। वैज्ञानिकों का कहना है कि उनके बच्चों की नेचुरल डेथ हुई थी। इनके मुताबिक जेनेटिक म्यूटेशन के चलते इनकी मौत हुई।

वैज्ञानिकों का कहना है कि, कैथलीन फोल्बिग के चारों बच्चे दुर्लभ अनुवांशिक बीमारी से ग्रसित थे, जिसकी वजह से उनकी मृत्यु हुई थी। ऐसी हालत में लोगों की धड़कन अचानक रुक जाती है। इसके अलावा ऐसे मरीजों को सांस लेने में दिक्कत होती है। वैज्ञानिक ने कहा कि ऐसा बहुत ही कम होता है कि चार बच्चों की इस तरह की जेनेटिक डिसॉर्डर से मौत हो जाए, लेकिन ऐसा हुआ है।

4 बच्चों की हत्या!

कैथलीन फॉलबिग को उसके चार बच्चों कालेब, पैट्रिक, सारा और लॉरा की हत्या करने के कारण जेल में डाल दिया गया था। बच्चों की उम्र 19 दिन से 19 महीने के बीच थी। उन दिनों फॉलबिग पर आरोप लगा था कि उन्होंने गला घोंट कर बच्चों का मार दिया। कहा गया था कि उन्होंने गुस्से में ऐसा किया।

Related posts