जन्मदिन विशेष: विवादों से भरी रही है महेश भट्ट की जिंदगी, इस वजह से मिली थी जान से मारने की धमकी

mahesh bhatt, mahesh bhatt birthday, mahesh bhatt controversy ,pooja bhatt, mahesh bhatt and pooja bhatt controversy

चैतन्य भारत न्यूज हिंदी सिनेमा के जाने-माने फिल्म मेकर महेश भट्ट आज 72 साल के हो गए हैं। उनका जन्म 20 सितंबर 1948 को ​मुंबई में हुआ था। उन्होंने अपने करियर में ‘सारांश’ और ‘अर्थ’ जैसी सुपरहिट फिल्में दी हैं। जन्मदिन के इस खास मौके पर आज हम आपको बताएंगे महेश भट्ट की जिंदगी से जुड़ी कुछ ऐसी बातें जिन्हें बहुत ही कम लोग जानते हैं। महेश के पिता का नाम नानाभाई भट्ट और माता का नाम शिरीन मोहम्मद अली था। दोनों के धर्म अलग-अलग थे। बहुत कम लोग जानते…

सर्व पितृ अमावस्या पर 20 साल बाद बन रहा है शुभ संयोग, मिलेगा श्राद्ध का पूरा फल और सौ बाधाओं से मुक्ति

sarva pitru amavasya,sarva pitru amavasya date,sarva pitru amavasya ka mahatav,sarva pitru amavasya ki shuruat,

चैतन्य भारत न्यूज हिंदू धर्म में आश्विन मास की सर्व पितृ अमावस्या तिथि को महत्वपूर्ण माना जाता है। दरअसल ये 15 दिनों तक चलने वाले पितृ पक्ष का आखिरी दिन होता है। इस साल पितृमोक्ष अमावस्या 17 सितंबर को है। इस दौरान ग्रह नक्षत्रों का विशेष संयोग बन रहा है। पंडितों के मुताबिक, पितृपक्ष में ऐसा शुभ संयोग 20 साल बाद बन रहा है। कहा जा रहा है कि इस साल अमावस्या तिथि पर जल तर्पण से पितृ न सिर्फ तृप्त होंगे अपितु उनके आशीर्वाद से सफलता और समृद्धि के…

पृथ्वी के प्रथम शिल्पकार हैं भगवान विश्वकर्मा, विधि विधान से पूजन करने से घर और दुकान में आती है सुख-समृद्धि

vishwakarma puja,vishwakarma puja 2019,vishwakarma puja ka mahtav,vishwakarma puja vidhi

चैतन्य भारत न्यूज भगवान विश्वकर्मा को निर्माण और सृजन का देवता माना जाता है। उन्हें दुनिया का सबसे पहला इंजीनियर भी कहा जाता है। हर साल शिल्पकार भगवान विश्वकर्मा पूजा का त्योहार मनाते हैं। विश्वकर्मा पूजा का पर्व कन्या संक्रांति के दिन मनाया जाता है जो इस बार 16 सितंबर को है। इसे विश्वकर्मा जयंती भी कहा जाता है। कहा जाता है कि भगवान विश्वकर्मा ने ही देवी-देवताओं के लिए अस्त्रों, शस्त्रों, भवनों और मंदिरों का निर्माण किया था। पुराणों के मुताबिक, उन्होंने ही सृष्टि की रचना में भगवान ब्रह्मा…

मासिक शिवरात्रि आज, इस विधि से करें भगवान शिव की पूजा, व्रत करने से मिलता है अनंत फल

masik shivratri, masik shivratri 2020

चैतन्य भारत न्यूज हिंदू धर्म में मासिक शिवरात्रि का काफी महत्व है। इस दिन भगवान शिव की आराधना की जाती है।  प्रत्येक महीने कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी को मासिक शिवरात्रि मनाई जाती है। इस बार मासिक शिवरात्रि 15 सितंबर को पड़ रही है। आइए जानते हैं मासिक शिवरात्रि का महत्व और व्रत की पूजा-विधि। मासिक शिवरात्रि का महत्व मासिक शिवरात्रि शिव और शक्ति के संगम का व्रत है। कहा जाता है कि मासिक शिवरात्रि में व्रत, उपवास रखने और भगवान शिव की सच्चे मन से आराधना करने से सभी मनोकामनाएं…

पति की लंबी आयु के लिए किया जाता है रोहिणी व्रत, ऐसे करें भगवान वासुपूज्य की पूजा

rohini vrat,rohini vrat ka mahatav,rohini vrat puja vidhi,rohini mata,kab hai rohini vrat,kyu kiya jata hai rohini vrat

चैतन्य भारत न्यूज जैन समुदाय में रोहिणी व्रत का सबसे ज्यादा महत्व माना जाता है। हर महीने आने वाले इस व्रत को लोग पूरी श्रद्धा और आस्था के साथ करते हैं। महिलाएं यह व्रत अपने पति की लंबी उम्र और अच्छे स्वास्थ्य की कामना के लिए करती हैं। इस व्रत में भगवान वासुपूज्य की पूजा की जाती है। इस बार यह व्रत 10 सितंबर को पड़ रहा है। आइए जानते हैं इस व्रत का महत्व और पूजा-विधि। रोहिणी व्रत का महत्व यह व्रत महिलाओं के लिए अधिक महत्वपूर्ण माना गया…

आज है कालाष्टमी, काल भैरव को प्रसन्न करने के लिए इस विधि से करें पूजा, सब कष्ट होंगे दूर

kalashtami 2020,kalashtami 2020 ka mahatava

चैतन्य भारत न्यूज हिंदू धर्म में कालाष्टमी का काफी महत्व है। हर माह के कृष्ण पक्ष की अष्टमी को कालाष्टमी मनाई जाती है। इस दिन कालभैरव की पूजा की जाती है। कालभैरव के भक्त साल की सभी कालाष्टमी के दिन उनकी पूजा और उनके लिए उपवास करते हैं। इस बार कालाष्टमी 10 सितंबर को मनाई जाएगी। आइए जानते हैं कालाष्टमी का महत्व और पूजा-विधि। कालाष्टमी का महत्व कालभैरव को भगवान शिव का पांचवा अवतार माना गया है। मान्यता है कि, इस दिन जो भी भक्त कालभैरव की पूजा करता है…

श्राद्ध 2020 : पितृ पक्ष में भूलकर भी नहीं करनी चाहिए ये गलतियां

pitra paksha 2019, pitra paksha ke douraan kyaa nhi karna chahiye ,pitra paksha ke douraan ki savdhaniya

चैतन्य भारत न्यूज अश्विन मास के कृष्ण पक्ष की पूर्णिमा तिथि को श्राद्ध पक्ष की शुरुआत होती है और अमावस्या को इसकी समाप्ति होती है। इस बार पितृ पक्ष 01 सितंबर 2020, पूर्णिमा के दिन से शुरु होकर 17 सितंबर, अमावस्या के दिन खत्म होंगे। पितृ पक्ष के दौरान पितरों की पूजा और पिंडदान करने की विशेष मान्यता है। कहते हैं कि पितृ पक्ष के दौरान पितृ लोक के द्वार खुलते हैं और सभी पितर धरती पर आगमन करते हैं। यही कारण है कि इन दिनों में उनकी पूजा, तर्पण…

जन्मदिन विशेष: 260 करोड़ के प्राइवेट जेट और 80 करोड़ के बंगले के माल‍िक हैं अक्षय कुमार

happy birthday akshay kumar, akshay kumar net worth ,akshay kumar property,

चैतन्य भारत न्यूज बॉलीवुड के ख‍िलाड़ी कुमार कहे जाने वाले अभिनेता अक्षय कुमार का 9 स‍ितंबर को जन्‍मदिन है। अक्षय का जन्म 9 सितंबर 1967 को अमृतसर में हुआ था। 1991 में आई फिल्म ‘सौगंध’ से अपने फिल्मी करियर की शुरुआत करने वाले अक्षय का असली नाम राजीव हरिओम भाटिया है। बॉलीवुड में कदम रखने से पहले अक्षय कभी बैंकॉक में वेटर हुआ करते थे। लेकिन अपनी मेहनत और लगन के बल पर अक्षय आज के समय में दुनिया में सबसे ज्यादा कमाने वाले चौथे अभिनेता हैं। फोर्ब्‍स द्वारा जारी…

श्राद्ध 2020 : इन मंत्रों के जाप से पितृ जरूर होंगे प्रसन्न, प्राप्त होगा आशीर्वाद

pitru paksha 2019,shradh mantra,pitru paksha 2019 pujan vidhi

चैतन्य भारत न्यूज इन दिनों पितृ पक्ष चल रहे हैं। जैसे नवरात्र को देवी पक्ष कहा जाता है उसी प्रकार आश्विन कृष्ण पक्ष से अमावस्या तक को पितृपक्ष कहा जाता है। मान्यता है कि, इस दौरान हमारे पूर्वज धरती पर आते हैं और भोजन ग्रहण कर हमें आशीर्वाद देकर वापस अपने लोक चले जाते हैं। इस दौरान पितरों का पूरे विधि-विधान के साथ श्राद्ध किया जाता है। आइए जानते हैं श्राद्ध के उन मंत्र के बारे जिन्हें जपने से पितरों का आशीर्वाद प्राप्त होता है। तर्पण मंत्र पिता को इस…

ये हैं श्राद्ध के 6 पवित्र लाभ, पितरों के आशीष से पूर्ण होती हैं सभी मनोकामनाएं

pitru paksha 2019,pitru paksha me shradh se hone waale labh

चैतन्य भारत न्यूज पितृ पक्ष में पितरों का श्राद्ध और तर्पण कार्य किया जाता है। मान्यता है कि पितृ पक्ष के दौरान हमारें पूर्वज धरती पर आते हैं और भोजन ग्रहण कर हमें आशीर्वाद देकर वापस चले जाते हैं। कहा जाता है कि पितरों का श्राद्ध और तर्पण करने से इंसान को कई तरह के लाभ प्राप्त होते हैं, जिससे उनका जीवन खुशियों से भरा रहता है। तो आइए जानते हैं पितरों के श्राद्ध से कौन-कौन से लाभ होते हैं। ये हैं श्राद्ध से मिलने वाले लाभ श्राद्ध कर्म से…