अयोध्या: 39 माह में राम मंदिर निर्माण पूरा करने की तैयारी, एक हजार साल तक अक्षुण्ण रहेगी भव्यता, टाटा कंस्ट्रक्शन करेगी सहयोग!

चैतन्य भारत न्यूज

अयोध्या स्थित सर्किट हाउस में शुक्रवार को राममंदिर निर्माण समिति की बैठक संपन्न हुई। बैठक की अध्यक्षता समिति के चेयरमैन नृपेंद्र मिश्र ने की। बैठक में टाटा कंस्ट्रक्शन के इंजीनियर भी शामिल हुए। इसमें राममंदिर व उसकी भव्यता को लेकर करीब तीन घंटे तक मंथन किया गया।

टाटा व एलएंडटी के प्रजेंटेशन देखकर रणनीति बनाई

ऐसी संभावना है कि टाटा कंस्ट्रक्शन राममंदिर निर्माण में शामिल हो सकता है। राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट निर्माण में टाटा कंस्ट्रक्शन का सहयोग ले सकता है। हालांकि ट्रस्ट के सदस्य इस पर फिलहाल खुलकर कुछ बोले नहीं रहे हैं। जानकारी के मुताबिक, बैठक के दौरान मिश्र ने अब तक हुए कार्यों की प्रगति की जानकारी ली, साथ ही इंजीनियरिंग संस्थान समेत टाटा व एलएंडटी के विशेषज्ञों के प्रजेंटेशन देखकर आगे के कार्यों को लेकर रणनीति बनाई।

39 माह में निर्माण पूरा करने पर विचार

बैठक में इस बात पर भी विचार हुआ कि कैसे मंदिर का निर्माण 39 माह में पूरा किया जा सकता है। साथ ही मंदिर निर्माण के छोटे-छोटे पहलुओं को लेकर चर्चा की गई। बैठक में तकनीकी विशेषज्ञों ने राममंदिर की भव्यता व उसकी मजबूती को लेकर प्रजेंटेशन भी दिया। बैठक के बाद ट्रस्ट के सदस्य डॉ। अनिल मिश्र ने बताया कि मंदिर निर्माण समिति की दो दिन तक बैठक चलेगी। शुक्रवार को पहली बैठक हुई और शनिवार को एक बार फिर बैठक होगी।

वैज्ञानिक मानकों को पूरा करने की तैयारी

सभी राम भक्तों को ट्रस्ट से यह अपेक्षा है कि राम मंदिर करीब एक हजार वर्षों तक सुरक्षित रहे। इसलिए मंदिर निर्माण में इसके वैज्ञानिक मानकों को पूरा करने की पूरी तैयारी चल रही है। सर्किट हाउस में शनिवार को भी बैठक होगी, इसमें टाटा कंस्ट्रक्शन कंपनी व एलएंडटी के इंजीनियर भी शामिल होंगे। राममंदिर निर्माण समिति के अध्यक्ष नृपेंद्र मिश्र तीन दिन के अयोध्या दौरे पर हैं। इस दौरान वे राममंदिर निर्माण को लेकर विभन्न पहलुओं पर चर्चा कर रहे हैं।

Related posts