राम मंदिर निर्माण की तैयारियां परवान पर, पुराने मॉडल के अनुरूप चल रहा काम

ram mandir

चैतन्य भारत न्यूज

अयोध्या. उत्तर प्रदेश के अयोध्या में रामजन्मभूमि पर भव्य राम मंदिर की मांग के विपरीत पुराने मॉडल के अनुसार निर्माण की तैयारी जोरों-शोरों से चल रही है। राम मंदिर निर्माण की कार्यदायी संस्था लार्सन एंड टुब्रो (एलएंडटी) के प्रतिनिधियों की सक्रियता ही यह बता रही है कि मंदिर का कार्य शुरू होने में अभी ज्यादा दिन नहीं है।

एलएंडटी कंपनी के प्रोजेक्ट मैनेजर पंकज श्रीवास्तव समेत कई अन्य कर्मी भी अयोध्या में पहुंच चुके हैं और अब वे मंदिर निर्माण में लगने वाले 100 से ज्यादा स्टाफ के लिए आवासीय परिसर सुनिश्चित करने में लगे हैं। पहले यह माना जा रहा था कि मंदिर निर्माण में काम करने वाले लोग रामजन्मभूमि परिसर में ही डेरा जमाएंगे, लेकिन कंपनी ने इस संभावना को खारिज कर दिया। उन्होंने विहिप के स्वामित्व वाली रामसेवकपुरम कार्यशाला एवं रामकथाकुंज कार्यशाला परिसर में स्टाफ के लिए आवासीय परिसर की तलाश करना शुरू कर दी है।

जानकारी के मुताबिक, तराशे गए पत्थरों को न्यास कार्यशाला की दक्षिण की तरफ की दीवार तोड़कर विशाल गेट बनाया जाएगा। वहीं पंचकोसी परिक्रमा मार्ग के रास्ते से शाहनेवाजपुर चौराहा, महोबरा चौराहा एवं टेढ़ीबाजार चौराहा होते हुए गंतव्य तक पहुंचाए जाने की योजना का काम अंतिम रूप में है। राम मंदिर से जुड़े सूत्रों का कहना है कि 11 मई से शुरू हुए परिसर के समतलीकरण का काम पिछले हफ्ते ही पूरा हो गया है। इस हफ्ते मंदिर की बुनियाद ढाली जा सकती है।

Related posts