अयोध्या में राम मंदिर का भूमि पूजन पांच अगस्त को, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी करेंगे

ram mandir ayodhya

चैतन्य भारत न्यूज

अयोध्या. सुप्रीम कोर्ट के फैसले के करीब नौ माह बाद अब रामजन्म भूमि पर मंदिर के भूमिपूजन की तारीख तय हो गई है। पांच अगस्त को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इसका भूमिपूजन करेंगे। शनिवार को अयोध्या में हुई श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट की बैठक में भूमिपूजन के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को आमंत्रित किया गया था। तीन या पांच अगस्त की तारीख प्रस्तावित की गई थी। रविवार को प्रधानमंत्री कार्यालय ने पांच अगस्त को भूमिपूजन के लिए सहमति दे दी है।

जानकारी के मुताबिक प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पांच अगस्त को चार घंटे तक यहां रहेंगे। बताया जा रहा है कि पीएम मोदी भूमिपूजन के दौरान तांबे का कलश स्थापित करेंगे। वैदिक विद्वान नेमकुमार मिश्र ने दैनिक भास्कर को बताया कि मंदिर के नींव पूजन के लिए तांबे के कलश में पंच रत्न हीरा, पन्ना, माणिक, सोना और पीतल रखे जाते हैं। साथ ही चांदी से बने नाग- नागिन, कछुआ, सेवर घास और गंगा जल भरा जाता है। इस कलश की स्थापना के बाद नंदा, भद्रा, जया रिक्ता और पूर्णा नाम की पांच ईंटों की पूजा होगी। प्रधानमंत्री के हाथों वैदिक पूजन के बाद यह सारी सामग्री नींव में स्थापित कर निर्माण कार्य शुरू किया जाएगा।

उधर, श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट ने शनिवार को मंदिर के मॉडल में तीन बड़े परिवर्तन स्वीकार किए हैं। भव्यता के लिए ऊंचाई 33 फीट बढ़ाई गई है। मंदिर प्रस्तावित 128 के बजाय 161 फीट ऊंचा होगा। विश्व हिंदू परिषद द्वारा पहले बनवाए गए मॉडल में तीन गुंबद ही थे, नए मॉडल में पांच गुंबद रखे जाएंगे। पुराना मॉडल 60 फीसदी तक बदल जाएगा। ऊंचाई के साथ जमीन पर लंबाई और चौड़ाई भी बढ़ेगी। परिक्रमा मार्ग पर गणेश, महामाया, सीता, हनुमान सहित पांच देवताओं के मंदिर भी बनाए जाएंगे।

Related posts