धधकते अंगारों के बीच तपती धूप में 7 घंटे कंप्यूटर बाबा ने किया अनशन, संतों पर अत्याचार का किया विरोध

computer baba

चैतन्य भारत न्यूज

इंदौर. हमेशा सुर्खियों में रहने वाले महामंडलेश्वर और पूर्व राज्यमंत्री कंप्यूटर बाबा कोरोना वायरस के कहर और लॉकडाउन के बीच बुधवार को अनशन पर बैठे। वह इंदौर के गोमटगिरी स्थित अपने आश्रम पर दो शिष्य के साथ अनशन पर बैठे। जानकारी के मुताबिक, कंप्यूटर बाबा महाराष्ट्र के पालघर और उत्तरप्रदेश के बुलंद शहर में संतों की हत्या के विरोध में जलते कंडो के बीच 7 घंटे अनशन किया। इसके साथ ही देश में कोरोना महामारी का प्रकोप कम हो और यह बीमारी समाप्त हो जाए इसके लिए भी यह अनशन है।

कंप्यूटर बाबा का अनशन सुबह 9 बजे शुरू हुआ था जो शाम 4 बजे तक चला। बुधवार को भीषण गर्मी के बावजूद वह जलते कंडों के बीच बैठे रहे। इस दौरान कंप्यूटर बाबा ने जलते कंडों के बीच धूनी रमाई। इतना ही नहीं बल्कि उन्होंने अपने सिर पर आग से भरी हुई मटकी भी रखी। यानि चारों तरफ से भीषण गर्मी के बीच वो बैठे रहे। जब वो तप पर बैठे तो तापमान 42 डिग्री के पार पहुंच गया।

कंप्यूटर बाबा ने कहा, ‘आज देश संकट की स्तिथि में है। कोरोना महामारी के कारण हाहाकार मचा है। साथ ही कुछ अराजक तत्वों के द्वारा हमारे साधु महात्माओं को टारगेट कर हत्या की जा रही है। मैं पालघर और बुलंदशहर में संतों की निर्मम हत्या करने वाले आरोपियों के लिए जल्द से जल्द कठोर दंड की मांग करता हूं। इसके साथ ही अनशन पर तपस्या कर ईश्वर से समस्त देशवासियों के कल्याण तथा कोरोना महामारी के अंत की प्रार्थना करूंगा।’

कंप्यूटर बाबा ने यह भी कहा कि, ‘अगर संतों की सुरक्षा भोजन और स्वास्थ्य की लॉकडाउन के दौरान कोई व्यवस्था नहीं की गई तो लॉकडाउन खुलने के बाद कंप्यूटर बाबा 10,000 संतों को लेकर बुलंदशहर में अनशन करने पहुंचेंगे।’

गौरतलब है कि इससे पहले साल 2019 के लोकसभा चुनाव के दौरान भी कंप्यूटर बाबा ने भोपाल सीट से कांग्रेस उम्मीदवार दिग्विजय सिंह के समर्थन में धूनी रमाई थी। इतना ही नहीं बल्कि उन्होंने तो सरकार बनाने की कसम भी खाई थी। हालांकि, दिग्विजय सिंह चुनाव हार गए थे।

यह भी पढ़े…

भोपाल में सैकड़ों साधु दिग्विजय सिंह की जीत के लिए रमा रहे धूनी

Related posts