कोरोनिल विवाद पर बोले बाबा रामदेव- विरोधियों के मंसूबों पर पानी फिरा तो आतंकियों की तरह FIR करा दी

चैतन्य भारत न्यूज

कोरोना वायरस की वैक्सीन के लिए जहां दुनियाभर में कोशिशें चल रही हैं, वहीं बाबा रामदेव के पतंजलि आयुर्वेद ने कोरोनिल दवा लॉन्च की थी जो विवादों के घेरे में हैं। इस दवा को लेकर तमाम सवाल उठाए गए हैं। जिसके बाद बुधवार को कोरोनिल दवा पर सफाई देने के लिए योग गुरु बाबा रामदेव ने हरिद्वार में एक प्रेस कांफ्रेंस का आयोजन किया। इस प्रेस कांफ्रेंस में बाबा रामदेव के साथ आचार्य बालकृष्ण भी शामिल हुए थे।

दरअसल, बाबा रामदेव ने कोरोनिल विवाद को शब्दों का मायाजाल बताते हुए ये कहा है कि, ‘आयुष मंत्रालय ने कोरोनिल को कोरोना मैनेजमेंट की दिशा में अच्छा प्रयास बताया है। कोरोना मैनेजमेंट की जगह कोरोना पेशेंट ठीक हुए, ये भी बोल सकते हैं, लेकिन क्योर शब्द में दिक्कत थी, अब मैं क्योर शब्द नहीं बोल रहा हूं, लेकिन ये दवा पूरे देश में मिलेगी। हमने योग और आयुर्वेद से लोगों को स्वस्थ होने की शिक्षा दी है, लेकिन फिर भी सवाल उठ रहे हैं। आयुष मंत्रालय ने कहा है कि पतंजलि ने कोविड के क्षेत्र में अच्छी पहल की है। इससे विरोधियों के मंसूबों पर पानी फिर गया।’

बाबा रामदेव ने कहा कि, ‘कोरोनिल के लॉन्च होने के बाद कुछ लोगों ने बवंडर मचा रखा है।  पतंजलि ने पलटी मारी, पतंजलि फेल, ऐसा कह-कहकर कुछ लोग स्वामी रामदेव की जाति और धर्म को लेकर गंदा माहौल बना रहे हैं।  जैसे कि योग, आयुर्वेद का काम करना गुनाह हो।  पतंजलि के काम से विरोधियों के मंसूबे पूरे नहीं हुए तो हमारे खिलाफ देशद्रोही और आतंकवादी की तरह FIR करानी शुरू कर दी गई।’

23 जून को कोरोनिल की लॉन्चिंग के साथ ही शुरू हुए विवाद के बावजूद कोरोनिल मार्केट में कैसे मिलेगी, इस पर बाबा रामदेव से सवाल किया गया कि, उन्होंने सरकार के साथ कौन सा मैनेजमेंट किया है। इस सवाल पर बाबा रामदेव ने कहा, ‘कोई मैनेजमेंट नहीं है। कोई हिडेन एजेंडा नहीं है। मैं लोगों का भला चाहता हूं। मैंने कोई पीएमओ में बात नहीं की है, कोई अमित शाह जी के यहां होम मिनिस्ट्री में बात नहीं की है, किसी बड़े मंत्री से मैंने बात नहीं है। हां, आयुष मंत्रालय से जरूर बात की है। उन्होंने कहा कि स्वामी जी आप क्योर शब्द मत बोलिए, बाकी आप जो कर रहे हैं वो करते रहिए, उन्होंने मैनेजमेंट शब्द बोला। क्योर शब्द वाली बात हमने भी आयुष मंत्रालय की मान ली। ‘

 

Related posts