बाबरी मस्जिद ढांचा विध्वंस मामला: 28 साल बाद फैसला, आडवाणी समेत सभी 32 आरोपी बरी

चैतन्य भारत न्यूज

बाबरी मस्जिद का विवादित ढांचा ढहाए जाने के मामले में आज लखनऊ की विशेष अदालत ने अपना फैसला सुना दिया है। अदालत ने बीजेपी नेता लालकृष्ण आडवाणी, मुरली मनोहर जोशी और उमा भारती समेत अन्य सभी 32 आरोपियों को बरी कर दिया है। कुल 48 लोगों पर आरोप लगे थे, जिनमें से 16 की मौत हो चुकी है।

कोर्ट में 6 आरोपी मौजूद नहीं हैं। लालकृष्ण आडवाणी, मुरली मनोहर जोशी, उमा भारती, शिवसेना के पूर्व सांसद सतीश प्रधान, महंत नृत्य गोपाल दास और पूर्व मुख्यमंत्री कल्याण सिंह वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग से कोर्टरूम से जुड़े। इनके अलावा अन्य सभी 26 आरोपी मौजूद हैं।

विशेष जज एसके यादव के कार्यकाल का आज अंतिम फैसला था। 30 सितंबर 2019 को रिटायर होने वाले थे, लेकिन सुप्रीम कोर्ट ने उन्हें 30 सितंबर 2020 तक सेवा विस्तार दिया।

Related posts