विज्ञान का नया चमत्कार, 27 साल पुराने भ्रूण से हुआ स्वस्थ बच्ची का जन्म

चैतन्य भारत न्यूज

विज्ञान की दुनिया में यह किसी चमत्कार से कम नहीं है। यहां आए दिन कोई न कोई ऐसा नया अविष्कार होता रहता है जो हर दुनिया को चौंका देता है। अमेरिका के टेनेसी राज्य में ऐसा ही एक चमत्कार देखने को मिला। 26 अक्टूबर को एम्ब्रयो फ्रीजिंग तकनीक से एक बच्ची का जन्म हुआ। यह एक रिकॉर्ड है, जब 27 साल पहले फ्रीज कराए कराए गए एम्ब्रयो (भ्रूण) से किसी बच्ची का जन्म हुआ। मामले के सामने आने के बाद दुनियाभर में इसकी चर्चा हो रही है। साथ ही यह बांझपन से जूझ रही महिलाओं के लिए उम्मीद की किरण भी है।

फरवरी में भ्रूण ट्रांसप्लांट कराया

मॉली की मां टीना गिब्सन की उम्र 28 साल है। 1992 में एक महिला द्वारा फ्रीज कराए गए भ्रूण को टीना में 12 फरवरी, 2020 ट्रांसप्लांट किया गया। यह अब तक का सबसे लंबे समय तक फ्रीज किया हुआ भ्रूण है, जिससे किसी बच्ची का जन्म हुआ। टीना ने 26 अक्टूबर को बच्ची को जन्म दिया। बच्ची का नाम मॉली एवरेट रखा गया। अभी मॉली का वजन 3 किलो है और वह स्वस्थ है। मॉली गिब्सन का जन्म विज्ञान की दुनिया में निसंतान दंपतियों के लिए किसी वरदान से कम नहीं है।

क्या है एम्ब्रयो फ्रीजिंग तकनीक

जर्नल ह्यूमन रिप्रोडक्शन के मुताबिक, जब महिला कंसीव करती है, तो भ्रूण का विकास शुरू होता है। गर्भावस्था के 8 हफ्ते तक इसे भ्रूण ही कहते हैं। कई दंपति इस भ्रूण को फ्रीज कराते हैं ताकि भविष्य में जब मां बनना हो, तो इसका प्रयोग कर सकें। इसके अलावा कुछ दंपति इसे डोनेट भी कर देते हैं ताकि बांझपन से जूझ रहीं महिलाएं मां बन सकें। इसका इस्तेमाल रिसर्च में किया जाता है।

भ्रूण को ऐसे किया जाता है फ्रीज

कोई महिला भ्रूण को फ्रीज कराना चाहती है, तो उसे पहले डॉक्टर कुछ हार्मोन्स के इंजेक्शन या दवाएं देते हैं। इससे शरीर में एग्स (अंडे) बनने की प्रक्रिया तेज हो जाती है। इनका विकास होने के बाद डॉक्टर्स इन अंडों को बाहर निकाल लेते हैं। इनसे भ्रूण को विकसित करके फ्रीज कर लिया जाता है। अगर महिला चाहे तो केवल अंडे को भी फ्रीज करा सकती है। वह जब भी मां बनना चाहे, तो इनका इस्तेमाल कर सकती हैं। ज्यादातर नौकरी करने वाली महिलाएं 22 से 28 साल की उम्र में एग्स फ्रीज कराती हैं ताकि भविष्य में देर से भी मां बनना चाहें तो बन सकें।

Related posts