महिला दिवस: दूसरों के घरों में काम करने वाली महिला बन गई एक मशहूर लेखिका, संघर्ष की कहानी ने बनाया स्टार

baby halder,baby halder books,baby halder writer

चैतन्य भारत न्यूज

हमारे आसपास कई ऐसे उदाहरण देखने को मिल जाते हैं जो साधारण होते हुए भी असाधारण बन जाते हैं। ऐसे लोग दृढ़ संकल्प और कड़ी मेहनत के दम पर अपने सपनों को हकीकत में बदल देते हैं। ऐसी ही कहानी है Ïदूसरों घर में काम करने वाली बाई बेबी हलदर की, जिन्होने पूरी लगन से अपनी जिंदगी को बदल दिया। लोग आज उन्हें मशहूर लेखिका के तौर पर जानते हैं। कई मुश्किलों का सामना करते हुए भी उन्होंने कभी हार नहीं मानी। उनकी अब तक चार सफल किताबें छप चुकी हैं।



baby halder,baby halder books,baby halder writer

बेबी हलदर की कहानी 

बेबी हलदर नाम की 41 वर्षीय महिला कभी एक साधारण सी कामवाली बाई हुआ करती थीं लेकिन आज वो एक जानी मानी लेखिका हैं और गुडगांव में काम करती हैं। 13 साल की उम्र में उनकी शादी एक बड़े उम्र के आदमी से कर दी गई, 20 साल की उम्र तक उनके तीन बच्चे हो चुके थे।

उन्होंने अंतत: प्रताड़ना से भरी अपनी शादी से बाहर आने का फैसला किया और तीन बच्चों के साथ राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली पहुंचीं। वहां उन्हें मुंशी प्रेमचंद के नाती प्रबोध कुमार श्रीवास्तव के यहां काम मिला। श्रीवास्तव ने उन्हें लाइब्रेरी की साफ-सफाई के दौरान धूल फांकती महाश्वेता देवी और तसलीमा नसरीन की किताबों को अक्सर उलटते-पुलटते देखा।

baby halder,baby halder books,baby halder writer

जब भी वो प्रबोध के घर साफ-सफाई किया करती तो बुक के शेल्फ को देखने लगतीं। बंगाली किताबों को खोलकर पढ़ने लगतीं। उन्होंने बेबी को बांग्लादेशी ऑथर तसलीमा नसरीन की किताब दी और पढ़ने को कहा। पूरी किताब पढ़ने के बाद प्रबोध ने उनको खाली नोटबुक दी और अपनी कहानी लिखने को कहा। नतीजा रहा कि 2003 में उनकी आत्मकथा आलो-आंधारि का अंग्रेजी अनुवाद ‘ए लाइफ लेस ऑर्डिनरी’ नाम से प्रकाशित हुआ।

किताब इतनी पसंद की गई कि उसका 14 भाषाओं में अनुवाद हुआ। बेबी हल्दर साहित्य जगत का चर्चित नाम बन गईं। वे बुक टूर पर फ्रांस, जर्मनी और हांगकांग गईं। बाद में उनकी कुछ और किताबें- इशत रूपांतर, घोरे फेरार पथ भी आईं। बेबी प्रोफेसर प्रबोध कुमार के घर पिछले 16 सालों से काम कर रही हैं और प्रबोध कुमार ही उनके मेंटर व अनुवादक हैं।

baby halder,baby halder books,baby halder writer

बेबी की मानें तो एक लेखिका के रुप में उनका दूसरा जन्म हुआ है और उनकी लिखी हुई कहानी लोगों के दिलों को स्पर्श करती है। अब बेबी की यही ख्वाहिश है कि वो अपनी किताबों से कमाए हुए पैसों से कोलकाता में एक घर बना सकें। यहां वे एनजीओ ‘अपने आप विमेंस वर्ल्ड’ से जुड़ गईं। वे अब सोनागाछी जैसे क्षेत्रों में यौनकर्मियों के बच्चों को पढ़ाती हैं।

बेबी कहती है कि, ‘मैं उन्हें बांग्ला और हिंदी सिखाती हूं। कभी-कभी बच्चों की माएं भी साथ आती हैं। वे अपनी पीड़ा, अपनी कहानियां सुनाती हैं और अक्सर हमसे सलाह और मार्गदर्शन मांगती हैं। हम उन्हें सशक्त बनाने के तरीकों की तलाश कर रहे हैं।’

baby halder,baby halder books,baby halder writer

ये भी पढ़े…

महिलाओं के लिए प्रेरणा हैं 90 साल की लतिका चक्रवर्ती, अपने हाथों के हुनर से बनाई अपनी पहचान

माधुरी कानितकर ने रचा इतिहास, तीसरी महिला लेफ्टिनेंट जनरल बनीं

16 साल की शेफाली वर्मा बनीं महिला T20 में वर्ल्ड नंबर-1 बल्लेबाज

Related posts