अश्लील कमेंट करने वाले प्रोफेसर की बर्खास्तगी की मांग करते हुए छात्र-छात्राओं का धरना जारी

चैतन्य भारत न्यूज

वाराणसी. बनारस हिंदू विश्वविद्यालय (बीएचयू) में जंतु विज्ञान की छात्राओं पर अश्लील कमेंट करने के मामले में सस्पेंड हुए प्रोफेसर शैल कुमार चौबे को बर्खास्त करने की मांग करते हुए छात्र और छात्राएं धरने पर बैठ गए हैं। प्रो. चौबे पर करीब 36 छात्राओं ने यौन शोषण के आरोप लगाए थे।



कुछ दिन पहले ही विश्वविद्यालय की छात्राओं ने प्रोफेसर पर अश्लील हरकतें, छेड़छाड़ और शारीरिक शोषण का आरोप लगाया था। इसके बाद प्रोफेसर को लंबी छुट्टी पर भेज दिया गया था। लेकिन अब फिर से उनके वापस आने के बाद छात्र-छात्राओं का गुस्सा फूट पड़ा और वो विरोध में उतर गए। शनिवार शाम 6 बजे से ही सभी छात्र-छात्राएं सिंह द्वार पर धरने पर बैठे हैं। उन्होंने बीएचयू प्रशासन के खिलाफ प्रदर्शन भी किया, जिसके बाद बीएचयू प्रशासन ने जेसी बोस हॉस्टल का गेट बंद करा दिया है। छात्र-छात्राओं का धरना अभी भी जारी है। उनकी यह मांग है कि, जब तक आरोपी प्रोफेसर पर कोई कार्रवाई नहीं होगी उनका प्रदर्शन जारी रहेगा।


बता दें साल 2018 अक्टूबर में जंतु विज्ञान विभाग की छात्राओं ने बीएचयू प्रशासन से शिकायत कर प्रोफेसर चौबे पर शैक्षणिक टूर के दौरान छात्राओं से बदसलूकी, अश्लील हरकतें और शारीरिक शोषण जैसे आरोप लगाए थे। इसके बाद बीएचयू प्रशासन ने इस मामले को जांच कमेटी को सौंपा। फिर 7 जून 2019 को कार्यकारिणी परिषद की बैठक हुई और आरोपी प्रोफेसर पर अधिकतम पेनाल्टी लगाने का फैसला किया गया।

बीएचयू के रजिस्ट्रार ने कहा कि, ‘विश्वविद्यालय के कुलपति ने आरोपी प्रोफेसर को सस्पेंड कर दिया था। फिर जांच समिति ने इस मामले की एक रिपोर्ट सौंपी। इसके बाद विश्वविद्यालय प्रशासन ने प्रोफेसर पर प्रतिबंध लगा दिया था। इसके तहत वह प्रोफेसर न तो विश्वविद्यालय में किसी पोस्ट पर काम कर सकते हैं और न ही वह कोई जिम्मेदारी संभाल सकते हैं। वह किसी दूसरे कॉलेज या विश्वविद्यालय में भी आवेदन नहीं कर सकते हैं।

Related posts