बरेली की ‘निर्भया’ को 4 साल बाद मिला इंसाफ, दो दरिंदो को फांसी की सजा का ऐलान

rape

चैतन्य भारत न्यूज

बरेली. दिल्ली के बाद अब बरेली की ‘निर्भया’ को भी 4 साल बाद न्याय मिल गया है। शु्क्रवार को बरेली के पॉक्सो कोर्ट ने दोषियों की सजा पर फैसला सुना दिया। कोर्ट ने मामले में दोनों आरोपितों मुरारीलाल और उमाकांत को फांसी की सजा सुनाई है। साथ ही कोर्ट ने दोनों पर 50 हजार का जुर्माना भी लगाया है।


खेत में पड़ा मिला शव

जानकारी के मुताबिक, मामला बरेली जिले के नवाबगंज इलाके में 29 जनवरी 2016 का है। यहां एक नाबालिग बच्ची के साथ गांव के ही दो युवकों मुरारीलाल और उमाकांत ने सामूहिक बलात्कार किया था। जब बच्ची उस रात अपने घर नहीं पहुंची तो उसकी तलाश शुरू हुई। बच्ची का शव पास के ही खेत में मिला। शव देखने वालों ने उसी वक्त अंदाजा लगा लिया था कि हुआ क्या है। फिर पुलिस आई और शव को पोस्टमॉर्टम के लिए भेज दिया गया।

दरिंदगी की सारी हदें पार

जब पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट सामने आई तो हर कोई हैरान रह गया। बच्ची के साथ दरिंदगी की सारी हदें पार कर दी गई थी। उसके शरीर पर कई चोट के निशान थे। पुलिस ने आरोपितों की तलाश की तो दोनों काफी प्रयास के बाद भी नहीं मिले। फिर गांव के ही रामचंद्र ने पुलिस को बताया कि, ‘मुरारीलाल व उमाकांत उनसे मदद मांगने आए थे। वह पुलिस से बचाने की बात कह रहे थे।’ यह जानकारी मिलते ही पुलिस ने दोनों दरिंदों को दबोच लिया। पूछताछ में दोनों ने अपना जुर्म कबूल कर लिया।

गवाहों को मिल रही थी धमकी

तत्कालीन सीओ नरेश कुमार ने इस मामले की जांच की। पुलिस ने इस मामले में 2017 में चार्जशीट दाखिल की थी। लेकिन कोर्ट में यह मामला अब तक चलता रहा। मामले में पीड़िता की दादी, मां के अलावा रामचंद्र गवाह बने। दादी और एक अन्य गवाह को कई बार डराने की भी कोशिश की गई थी। एक अन्य गवाह तो कोर्ट में अपने बयान से भी पलट गया था। इसके बाद पुलिस ने उस गवाह यानी रामचंद्र को सुरक्षित रखने का भरोसा दिया, तब जाकर वह गवाही देने को तैयार हुए। इस मामले में आरोपितों को दोषी करार देने से पहले तीन दिन तक लगातार बहस हुई थी।

ये भी पढ़े…

निर्भया कांड के दरिंदों को फांसी पर लटकाएगा मेरठ का पवन जल्लाद, योगी सरकार ने दी इजाजत

जानिए क्या होता है डेथ वारंट? जिसके जारी होने के 15 दिन बाद दोषी को दी जाती है फांसी

निर्भया को मिला इंसाफ, 22 जनवरी को होगी चारों दोषियों को फांसी

Related posts