भेदभाव से तंग आकर चेहरे पर दाढ़ी-मूंछ लगाकर ऑफिस पहुंचीं सभी महिला वैज्ञानिक

bearded lady project

चैतन्य भारत न्यूज

एक समय था जब महिलाएं चार दीवारी के अंदर रहा करती थीं, लेकिन अब महिलाएं हर मामले में पुरुषों को टक्कर दे रही हैं या उनसे आगे निकल रही हैं। फिर भी उनके योगदान को सदैव पुरुषों की तुलना में कम ही आंका गया है। इतनी उपलब्धियां हासिल करने के बावजूद भारत में ही नहीं बल्कि दुनियाभर में पुरुषों की तुलना में कई बार महिलाओं को भेदभाव का सामना करना पड़ता है। इसी भेदभाव के खिलाफ अमेरिकी महिला वैज्ञानिकों ने अजीब-सी मुहिम छेड़ी है। यहां सभी महिला वैज्ञानिक कार्यस्थल पर दाढ़ी-मूंछ लगाकर पहुंचीं।



जी हां… भेदभाव के खिलाफ अपना गुस्सा जाहिर करने के लिए यहां महिला वैज्ञानिक अपने चेहरे पर दाढ़ी-मूंछ लगाकर ऑफिस पहुंच गईं। इस मुहिम की शुरुआत वनस्पति विज्ञान की प्रोफेसर एलन करेनो ने की है।

जानकारी के मुताबिक, भेदभाव के खिलाफ इन सभी महिला वैज्ञानिकों ने मिलकर ‘बीयर्डेड लेडी प्रॉजेक्ट’ की शुरुआत की है। इस प्रॉजेक्ट का मुख्य उद्देश्य लोगों का ध्यान अपनी ओर आकर्षित कर उन्हें यह बताना है कि महिला वैज्ञानिकों का योगदान भी किसी पुरुष वैज्ञानिक से कम नहीं होता है।

मुहिम में शामिल होने वाली सभी महिला वैज्ञानिकों का कहना है कि, टीवी के किसी भी कार्यक्रम में एक्सपर्ट के तौर पर ज्यादातर पुरुष वैज्ञानिकों को ही बुलाया जाता है।

उन्होंने यह भी कहा कि, ‘यदि हम सभी के साथ इस तरह का बर्ताव सिर्फ लैंगिक भेदभाव की सोच है तो फिर हम भी दाढ़ी लगाकर खुद को उनके जैसा बना सकते हैं।’ महिला और पुरुषों में समानता के लिए शुरू की गई इस मुहिम को सोशल मीडिया पर खूब सराहा जा रहा है।

ये भी पढ़े…

अगले मिशन मून में पहले महिला और फिर पुरुष को चांद पर उतारेगा नासा

महिलाओं को बोर्ड में शामिल करने वाली कंपनियां 5 साल में 10% बढ़ीं, शेयर होल्डिंग भी हुई बेहतर

कार हादसों में महिलाओं की मौत पुरुषों से 73% ज्यादा, वजह है सेफ्टी फीचर्स

Related posts