निरोग रहने के लिए सर्दी में जरूर करें ये 5 योगासन

exercise in winter,exercise,winter,Health

चैतन्य भारत न्यूज

ठंड के मौसम में अक्सर लोग योग व्यायाम करने से बचते हैं। इसका कारण है ठंड लगना, आलस्य आना और ज्यादा कपड़ें पहनने से एक्सरसाइज करने में परेशानी होना। आज हम आपको बताने जा रहे हैं कुछ ऐसे योगासन जिनके जरिए आप घर के अंदर ही कर स्वस्थ रह सकते हैं।



सूर्य नमस्कार

सर्दी में शरीर गर्म रहे और ब्लड सर्कुलेशन भी ठीक रहे इसके लिए सूर्य नमस्कार सबसे अच्छा है। सूर्य नमस्कार के 12 स्टेप्स होते हैं। हर रोज सूर्यनमस्कार करने से फ्लेक्सिबिलिटी बढ़ती है। साथ ही सर्दी से होने वाली जकड़न की समस्या दूर हो जाती है। साथ ही वजन भी कंट्रोल हो जाता है।

पश्चिमोत्तासन

ठंड के मौसम में पाचन अच्छा होता है इसलिए लोग अच्छी डाइट भी लेते हैं। ऐसे में पश्चिमोत्तासन से पाचन और भी बेहतर होता है। साथ ही भारीपन, कब्ज, गैस एसिडिटी आदि समस्याओं में राहत मिलती है। हाथों की मजबूती भी इसी से मिलती है। जिन्हें कमर या रीढ़ की हड्डी में दर्द रहता है वे पश्चिमोत्तासन न करें।

अर्द्ध मत्स्येंद्रासन

यह आसन डायबिटीज और पेट के रोगियों के लिए बहुत अच्छा है। साथ में ऊर्जा का संचार होता है। इसके अलावा मेरुदंड (रीढ़ की हड्डी) में लचीलापन और मजबूती मिलती है। इस आसन में आपको 20-20 सेकंड मुद्रा में रहना होता है। आप चाहे तो इसके दो राउंड कर सकते हैं।

धनुरासन

पेट के बल लेटकर किए जाने वाले आसनों में सर्दी के हिसाब धनुरासन कर सकते हैं। यह आसन पेट और पीठ दोनों के लिए अच्छा है। इससे थाइज की मसल्स मजबूत होती है और फेट घटता है। साथ ही ब्लड सर्कुलेशन अच्छा होता है और शरीर में गर्मी बनी रहती है।

चक्रासन

इस आसन को छाती की मजबूती के लिए अच्छा माना जाता है। इसे करने से आलस्य दूर होता है और शरीर में फुर्ती आती है। दरअसल चक्रासन करने से हाथों और पेट पर खिंचाव होता है जिससे उनको मजबूती भी मिलती है। पेट पर चर्बी जमा नहीं होती है। इस आसन को करने से मोटापा नहीं बढ़ता है। लेकिन जिन्हें कमर में दर्द है वो इसे करने से बचें।

कपालभाती और भस्त्रिका प्राणायाम

ठंड के मौसम में योगासन करने के बाद हर रोज प्राणायाम करना चाहिए। इसमें कपालभाति और भस्त्रिका दोनों ही प्राणायाम अंदर से ऊर्जा पैदा करते हैं। दोनों को पांच-पांच मिनट करना चाहिए। दोनों ही प्राणायाम को अपनी शक्ति के अनुसार 3-4 राउंड कर सकते हैं। बता दें कोई भी प्राणायाम योगासन के बाद करते हैं ताकि इसका लाभ अधिक मिल सके।

विशेष ध्यानार्थः यह आलेख केवल पाठकों की अति सामान्य जागरुकता के लिए है। चैतन्य भारत न्यूज का सुझाव है कि कोई भी आसन विशेषज्ञ सलाह से ही करें। गलत आसन करने से दिक्कत हो सकती है।

ये भी पढ़े…

सर्दियों में खाएंगे ये चीजें तो रहेंगे सेहतमंद, इनसे करें परहेज

अगर आप भी सुबह एक्सरसाइज का सोच रहे हैं तो पहले जान लें ये जरुरी बातें

ठंडक बढ़ने के कारण निमोनिया की चपेट में आ रहे हर उम्र के लोग, जानें इसका कारण, लक्षण, उपचार

Related posts