आज है भाई दूज, जानिए क्या है इसका महत्व, पौराणिक मान्यता और शुभ मुहूर्त

bhai dooj,bhai dooj 2019,bhai dooj ka mahatav,bhai dooj ki shuruat,bhai dooj ke niyam bhai dooj vrat, yam dwitiya,yam dwitiya date,yam dwitiya,diwali

चैतन्य भारत न्यूज

भाई-बहनों का खास त्योहार भाई दूज कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की द्वितीया तिथि को मनाया जाता है। इस बार भाई दूज का त्योहार 29 अक्टूबर को है। इसे यम द्वितीया भी कहा जाता है। इस दिन बहन अपने भाई के माथे पर तिलक लगाकर भाई की खुशहाली की कामना करती हैं। कहा जाता है कि भाईदूज के दिन भाई और बहन दोनों को मिलकर सुबह के समय यम, चित्रगुप्त, यम के दूतों की पूजा करनी चाहिए। आइए जानते हैं भाई दूज का महत्व और शुभ मुहूर्त।



bhai dooj,bhai dooj 2019,bhai dooj ka mahatav,bhai dooj ki shuruat,bhai dooj ke niyam bhai dooj vrat, yam dwitiya,yam dwitiya date,yam dwitiya,diwali

भाई दूज का महत्व

दिवाली के दो दिन बाद आने वाला ये एक ऐसा उत्सव है जो भाई बहन के अगाध प्रेम और स्नेह को दिखाता है। पौराणिक मान्यता के मुताबिक, भगवान श्रीकृष्ण और उनकी बहन सुभद्रा को लेकर भी भाई दूज की एक कथा प्रचलित है। कहा जाता है कि नरकासुर को मारने के बाद जब भगवान श्रीकृष्ण अपनी बहन सुभद्रा से मिलने पहुंचे थे, तब उनकी बहन ने उनका फूलों और आरती से स्वागत किया था और उनके माथे पर टीका किया था। जिसके बाद से इस त्योहार को मनाया जाने लगा। इस दिन बहनें अपने भाई की लंबी उम्र के लिए प्रार्थना करती हैं।

bhai dooj,bhai dooj 2019,bhai dooj ka mahatav,bhai dooj ki shuruat,bhai dooj ke niyam bhai dooj vrat, yam dwitiya,yam dwitiya date,yam dwitiya,diwali

भाई दूज पर तिलक करने का शुभ मुहूर्त

  • भाई दूज / यम द्वितीया की तिथि : 29 अक्‍टूबर 2019
  • द्वितीया तिथि प्रारंभ : 29 अक्‍टूबर सुबह 06.13 से
  • द्व‍ितीया तिथि समाप्‍त : 30 अक्‍टूबर को दोपहर 03.48 तक
  • तिलक का समय : दोपहर 01.11 से दोपहर 03.23 तक
  • कुल अवधि: 02 घंटे 12 मिनट

bhai dooj,bhai dooj 2019,bhai dooj ka mahatav,bhai dooj ki shuruat,bhai dooj ke niyam bhai dooj vrat, yam dwitiya,yam dwitiya date,yam dwitiya,diwali

Related posts