भारत-चीन सीमा पर तनाव के कारण टला राम मंदिर का भूमिपूजन कार्यक्रम, शहीद जवानों को दी गई श्रद्धांजलि

चैतन्य भारत न्यूज

अयोध्या. रामजन्मभूमि परिसर में विराजमान रामलला के भव्य मंदिर निर्माण के लिए 2 जुलाई को भूमि पूजन होना था जो फिलहाल टल गया है। यह फैसला भारत-चीन सीमा पर तनाव के कारण लिया गया है। ट्रस्ट के महासचिव चंपत राय ने कहा कि मंदिर के भूमि पूजन का कार्यक्रम ऐसे माहौल में सही नहीं है, इसलिए अब आगे का काम अनुकूल हालात में ही शुरू होगा। उन्होंने कहा कि फिलहाल मंदिर निर्माण और भूमि पूजन का कोई कार्यक्रम नहीं है।

शहीद जवानों को श्रद्धांजलि दी

चंपत राय ने बताया कि, श्रीरामजन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट इसकी आधिकारिक सूचना बाद में जारी करेगा। भारत-चीन सीमा पर तनाव के चलते यह भूमिपूजन का उपयुक्त समय नहीं है। साथ ही ट्रस्ट ने सीमा पर शहीद हुए वीर जवानों को श्रद्धांजलि भी दी है और कहा, परमात्मा सभी वीर शहीदों की आत्मा को शांति प्रदान करें। साथ ही दुखी परिजनों को धैर्य व शक्ति प्रदान करने की भी प्रार्थना की।

प्रधानमंत्री मोदी के हाथों होना था भूमि पूजन

बता दें 2 जुलाई को सुबह 8 बजे से 10:30 बजे तक भूमि पूजन होना था। भूमिपूजन कार्यक्रम को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को न्योता भेजा गया था और उन्हीं के हाथों राम मंदिर का भूमि पूजन कराने की तैयारी थी।

श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट की वेबसाइट लॉन्च

गौरतलब है कि, मंदिर निर्माण की तैयारियों में जुटे श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट ने बुधवार को अपनी आधिकारिक वेबसाइट https://srjbtkshetra.org लॉन्च की। वेबसाइट का लोकार्पण प्रदेश के पर्यटन मंत्री व अयोध्या के प्रभारी नीलकंठ तिवारी ने विराजमान रामलला के सामने किया। वेबसाइट के जरिये अब सोशल मीडिया पर भी रामलला के दर्शन हो सकेंगे और उनकी आरती में भक्त शामिल हो पाएंगे।

Related posts