भोपाल : हमीदिया अस्पताल से चोरी हुए 860 रेमडेसिविर इंजेक्शन, केस में आया नया मोड़, 6 इंजेक्शन दिल्ली में भर्ती मरीज को लगे

चैतन्य भारत न्यूज

भोपाल. मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में स्थित सरकारी हमीदिया अस्पताल से कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों के लिए कारगर रेमडेसिविर के 860 इंजेक्शन चोरी हो गए हैं। इस संबंध में कोहेफिजा पुलिस थाने में मामला दर्ज कर लिया गया था और पुलिस ने तुरंत ही जांच शुरू कर दी थी। अब मामले में नया मोड़ देखने को मिला है।

दरअसल, रविवार को जब पुलिस ने स्टोर के फार्मासिस्ट से पूछताछ की तो एक महत्वपूर्ण सुराग उनके हाथ लगा। फार्मासिस्ट ने बताया कि, जिस नंबर सीरीज के इंजेक्शन चोरी हुए थे, उसके छह इंजेक्शन दिल्ली के एक अस्पताल में भर्ती कोविड मरीज को लग चुके हैं। जब दिल्ली में इस मरीज को लगे इंजेक्शनों की सीरीज का मिलान किया गया तो वह चोरी हुए इंजेक्शनों की सीरीज से मैच हो गया है। इसके अलावा हमीदिया के D ब्लाॅक में बने कोविड सेंटर के रिकाॅर्ड का मिलान सेंट्रल स्टोर के स्टाॅक से नहीं हो रहा है। क्राइम ब्रांच इस मामले में अब तक 35 से ज्यादा लोगों से पूछताछ कर चुकी है।

पुलिस जांच के दौरान पता चला कि, सेंट्रल स्टोर के फार्मासिस्ट का साला कोरोना संक्रमित है और वह दिल्ली के एक अस्पताल में भर्ती है। उसको रेमडेसिविर इंजेक्शन की आवश्यकता थी। जब पुलिस ने इस बारे में फार्मासिस्ट से पूछा तो उसने भी स्वीकार किया कि उसके साले की हालत गंभीर है। उन्होंने डी ब्लाॅक कोविड सेंटर से 6 इंजेक्शन रेमडेसिविर के इश्यू कराए थे। वह इंजेक्शन लेकर 16 अप्रैल को संपर्क क्रांति एक्सप्रेस से दिल्ली पहुंचा था और अगली ट्रेन से वापस भी आ गया था। जब पुलिस ने दिल्ली के अस्पताल से इंजेक्शन की सीरीज बुलवाई, तो उसका मिलान स्टोर से गायब हुए इंजेक्शन की सीरीज से हो गया।

सेंट्रल ड्रग स्टोर में 5 सीसीटीवी कैमरे लगवाए जा रहे

पुलिस ने यह भी बताया कि सेंट्रल ड्रग स्टोर से 10 अप्रैल से 16 अप्रैल तक D ब्लाक कोविड सेंटर की डिमांड पर 548 इंजेक्शन भेजे गए, जबकि कोविड सेंटर के इंचार्ज ने बताया कि उन्हें स्टोर से 458 इंजेक्शन ही मिले। पुलिस ने जब रिकाॅर्ड जब्त किया और नर्सिंग स्टाफ से पूछताछ की तो पता चला कि रिकाॅर्ड में स्टोर से उन्हें 850 इंजेक्शन भेजे गए हैं। पुलिस अब उन कर्मचारियों से भी पूछताछ कर रही है जो स्टोर से इंजेक्शन लेकर जाते थे। पुलिस का दावा है कि जल्द ही इस घोटाले का खुलासा किया जाएगा। साथ ही अब सेंट्रल ड्रग स्टोर में 5 सीसीटीवी कैमरे लगाए जा रहे हैं।

Related posts