भोपाल सेंट्रल जेल में दो दिन में कैदियों ने बनाए 2000 मास्क, डिमांड आई तो और तैयार किए जाएंगे

bhopals central jail,

चैतन्य भारत न्यूज

भोपाल. भारत में कोरोना वायरस तेजी से पैर पसारता जा रहा है। कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों का आंकड़ा बढ़कर 112 पहुंच चुका है। देश के 13 राज्यों में कोरोना वायरस के पॉजिटिव केस सामने आ चुके हैं। ऐसे में कोरोना वायरस के संक्रमण से बचने के लिए भोपाल सेंट्रल जेल में कैदी सूती कपड़े से मास्क बना रहे हैं। दो दिन में यहां 2000 मास्क तैयार कर लिए गए हैं।



जेल प्रबंधन के मुताबिक, इनमें से कुछ मास्क कैदियों को बांटे जाएंगे। वहीं बाहर से डिमांड आने पर और मास्क बनाए जाएंगे। सेंट्रल जेल अधीक्षक दिनेश नरगावे ने बताया कि, जेल में संक्रमण से सुरक्षा के लिहाज से सावधानी बरती जा रही है। यदि बाहर से डिमांड आती है तो मास्क तैयार कर उनकी सप्लाई की जा सकती है।

उप अधीक्षक पीडी श्रीवास्तव ने बताया कि, जेल में आने वाले नए बंदियों को रखने के लिए एक अलग वार्ड बनाया गया है। इस वार्ड में पेरोल से वापस आने वाले, कोर्ट द्वारा सजा सुनाए गए और विचाराधीन बंदियों को रखा जाएगा। इन कैदियों को एक हफ्ते इस स्पेशल वार्ड में आब्जर्वेशन में रखने के बाद दूसरे वार्ड में शिफ्ट किया जाएगा। खबरों के मुताबिक, हमीदिया अस्पताल में भी 500 से ज्यादा मास्क बनकर तैयार किए गए हैं। आगे भी यहां मास्क बनाए जाएंगे। ये मास्क अस्पताल के डाॅक्टर से लेकर नर्सिंग स्टाफ समेत जरूरतमंदों काे उपलब्ध कराए जाएंगे।

मार्केट में मास्क की कीमत

  • टू प्लाई और थ्री प्लाई मास्क- पर्सनल प्राेटेक्शन के लिए, पहले कीमत- 5 से 10 रुपए, अभी – 30 से 40 रुपए में मिल रहा।
  • ब्लैक एंटी डस्ट मास्क- दूषित हवा से बचाव, कीमत पहले – 40 से 50 रुपए। अभी 100 से 250 रुपए में मिल रहा है।
  • एन-95 मास्क- काेराेना समेत सभी वायरल से बचाव। पहले कीमत 150 रुपए थी। अभी 1000 रुपए में भी उपलब्ध नहीं।

ये भी पढ़े…

ट्रेनों में भी कोरोना वायरस का डर, यात्रियों को कंबल नहीं देगा मध्य और पश्चिमी रेलवे

कोरोना वायरस आपदा घोषित, मौत पर 4 लाख का मुआवजा देने का ऐलान, 3 घंटे में सरकार ने वापस लिया आदेश

कोरोना वायरस के डर से दुनियाभर में बदला अभिवादन का तरीका, जानें अलग-अलग देशों की परंपराएं

Related posts