बिहार: पानी में बहा 264 करोड़ की लागत से बना पुल, एक महीने पहले हुआ था उद्घाटन

चैतन्य भारत न्यूज

गोपालगंज. बिहार में इन दिनों एक ओर बाढ़ का कहर और दूसरी तरफ कोरोना की मार है। राज्य में भारी बारिश से हालात बेकाबू होते जा रहे हैं। छपरा से सटे गोपालगंज जिले में बैकुंठपुर के फैजुल्लाहपुर में छपरा- सत्तरघाट मुख्य पथ को जोड़ने वाला पुल का एक हिस्सा ढह गया है।

करोड़ों में थी पुल की लागत

एक महीने पहले ही पुल का उद्धाटन हुआ था। 16 जून को सीएम नीतीश कुमार ने पटना से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से इस महासेतू का उद्घाटन किया था। इसके निर्माण में करीब 264 करोड़ की लागत आई थी जो अब पानी में बह गई। इस पुल को बनने में 8 साल लगे और ढहने में सिर्फ एक महीना। इसके टूटने से चंपारण तिरहुत और सारण के कई जिलों का संपर्क टूट गया है। पुल पर आवागमन पूरी तरह बाधित हो गया है।

तेजस्वी ने साधा नितीश सरकार पर निशाना

जानकारी के मुताबिक, गोपालगंज में आज तीन लाख से ज्यादा क्यूसेक पानी का बहाव था गंडक के इतने बड़े जलस्तर के दबाव से इस पुल का संपर्क सड़क टूट गई। जिसकी वजह से आवागमन बंद हो गया है। आरजेडी नेता तेजस्वी यादव ने पुल के ढहने को लेकर नीतीश सरकार पर निशाना साधा है। उन्होंने कहा कि, 263 करोड़ से 8 साल में बना लेकिन मात्र 29 दिन में ढह गया पुल। संगठित भ्रष्टाचार के भीष्म पितामह नीतीश जी इस पर एक शब्द भी नहीं बोलेंगे और ना ही साइकिल से रेंज रोवर की सवारी कराने वाले भ्रष्टाचारी सहपाठी पथ निर्माण मंत्री को बर्खास्त करेंगे। बिहार में चारों तरफ लूट ही लूट मची है। यह पुल इसलिए टूटा है क्योंकि इसमें भ्रष्टाचार हुआ है। इस पुल का पैसा अफसरों से वसूल किया जाना चाहिए।’

 

Related posts