मुफ्त कोरोना वैक्सीन को लेकर राजनीतिक गरमाई, बिहार चुनाव में भाजपा ने संकल्प पत्र में किया शामिल

corona vaccine

चैतन्य भारत न्यूज

नई दिल्ली. कोरोना महामारी के लिए प्रभावकारी वैक्सीन भले ही तैयार न हुआ हो लेकिन उसके लिए राजनीतिक जमीन तैयार हो गई है। नवंबर में होने जा रहे बिहार विधानसभा चुनाव के लिए जारी भाजपा के संकल्प पत्र में राज्य के सभी लोगों को मुफ्त कोरोना वैक्सीन देने के वादे को लेकर राजनीतिक सरगर्मी तेज हो गई है। घोषणा पत्र गुरुवार को केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने जारी किया। इसमें पहला संकल्प कोरोना वैक्सीन मुफ्त में देने का है। उन्होंने कहा कि बिहार में भाजपा की सरकार बनने के बाद प्रदेश के हर नागरिक को वैक्सीन मुफ्त दी जाएगी। इसे लेकर राजद नेता तेजस्वी ने कहा कि कोरोना वैक्सीन पूरे देश का है, केवल भाजपा का नहीं।

इसी बीच, मध्य प्रदेश और तमिलनाडु के मुख्यमंत्रियों ने भी अपने राज्यों में मुफ्त वैक्सीन देने की घोषणा कर दी। मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने गुरुवार को ग्वालियर में  चुनावी सभा में घोषणा की कि प्रदेश के गरीबों को कोरोना वैक्सीन मुफ्त में दी जाएगी। इसके अलावा तमिलनाडु के मुख्यमंत्री के. पलानीस्वामी ने भी राज्य के लोगों को वैक्सीन मुहैया कराने का आश्वासन दिया।

विपक्षी दल कहां चुप बैठने वाले थे। कांग्रेस ने इस वादे के लिए भाजपा को आड़े हाथों लिया। कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा कि लोगों को अपने- अपने राज्य में चुनाव का कार्यक्रम देखना चाहिए, ताकि पता चल सके कि उसे वैक्सीन कब मिलेगी। कांग्रेस के अलावा शिवसेना, समाजवादी पार्टी और नेशनल कांफ्रेंस ने भी वैक्सीन मुफ्त में देने के भाजपा के वादे पर सवाल उठाया है और इस मामले पर राजनीति करने का आरोप लगा दिया। समाजवादी पार्टी के नेता अखिलेश यादव ने कहा कि भाजपा बिहार में मुफ्त टीका लगवाएगी तो ऐसी ही घोषणा उत्तर प्रदेश और अन्य भाजपा शासित राज्यों के लिए भी क्यों नहीं की जा रही? इन आरोपों के जवाब में भाजपा ने कहा है कि स्वास्थ्य राज्य का विषय है और उसका संकल्प पत्र बिहार के लिए है, पूरे देश के लिए नहीं.

Related posts