ICU में भर्ती है आकाश विजयवर्गीय द्वारा पीटे जाने वाला निगम अधिकारी, जेल में दुष्कर्म और हत्या के कैदियों के साथ रह रहे आकाश

akash vijayvargiya

चैतन्य भारत न्यूज

इंदौर. निगम अफसर के साथ मारपीट करने के आरोपित विधायक आकाश विजयवर्गीय को फिलहाल जेल में ही रहना पड़ेगा। गुरुवार को उनकी ओर से अपर सत्र न्यायालय में जमानत याचिका दायर की गई थी। लेकिन कोर्ट ने उनकी याचिका यह कहते हुए खारिज कर दी कि, मंत्री और विधायकों से जुड़े आपराधिक मामलों की सुनवाई के लिए भोपाल में एक कोर्ट निर्धारित कर दी गई है। आकाश ने जिस अधिकारी को बल्ले से पीटा था उन्हें एक निजी अस्पताल में आईसीयू में भर्ती कराया गया है।

जानकारी के मुताबिक, नगर निगम के भवन निरीक्षक धीरेंद्र बायस की गुरुवार को अचानक तबीयत बिगड़ गई। इसके बाद देर शाम उन्हें पलासिया क्षेत्र स्थित निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया। रिपोर्ट्स के मुताबिक, उन्हें सीने में दर्द, जलन, घबराहट और उच्च रक्तचाप की शिकायत थी। धीरेंद्र को उल्टियां भी हुईं। इसलिए वह आईसीयू में भर्ती हैं। फिलहाल उनकी हालत स्थिर बनी हुई है।

बता दें 34 वर्षीय आकाश भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय के बेटे हैं। नवंबर 2018 का विधानसभा चुनाव जीतकर पहली बार विधायक बने। बुधवार को आकाश ने शहर के मध्य स्थित गंजी कम्पाउंड क्षेत्र में एक जर्जर भवन ढहाने की मुहिम के दौरान नगर निगम अधिकारी को क्रिकेट के बल्ले से पीट दिया था। इसके बाद से ही आकाश जेल में बंद है। जानकारी के मुताबिक आकाश को जेल में आम कैदियों के साथ ही रखा गया है। उनका बैरक नंबर 6/4 है।

जेल में रहकर आकाश ने सभी कैदियों के साथ शाम को प्रार्थना की और फिर उन्ही के साथ खाना भी खाया। बैरक अलॉट होने के बाद आकाश को स्टोर में बुलाया गया। वहां उन्हें सोने के लिए एक कंबल दिया गया। आकाश जिस बैरक में हैं उसमे तीन और कैदी भी हैं जो हत्या और दुष्कर्म की सजा काट रहे हैं। बता दें आकाश को 15 दिन की न्यायिक हिरासत में भेजा गया है।

ये भी पढ़े… 

पिता के नक्शेकदम पर चला बेटा, कैलाश विजयवर्गीय ने अफसर पर उठाया था जूता और अब आकाश ने बल्ला

VIDEO : कैलाश विजयवर्गीय के विधायक बेटे ने नगर निगम के अधिकारियों को बल्ले से पीटा 

Related posts