बिहार चुनाव: टिकट नहीं मिला तो बीजेपी विधायक चोकर बाबा ने गुस्से में जिंदगी भर के लिए अन्न खाना छोड़ा

चैतन्य भारत न्यूज

पटना. बिहार विधानसभा चुनाव में टिकट नहीं मिलने पर अलग-अलग दलों के नेता अपने-अपने हिसाब से रोष और नाराजगी प्रकट कर रहे हैं। अमनौर से बीजेपी (BJP) के विधायक शत्रुघ्न तिवारी उर्फ चोकर बाबा का टिकट काट दिया गया है। चोकर बाबा अब अपने टिकट काटे जाने का विरोध संन्यासी वाले अंदाज में कर रहे हैं। इसके लिए उन्होंने अन्न-जल त्याग कर आजीवन फलाहार पर रहने का निर्णय लिया है। उन्होंने कहा है कि अब वह जीवन पर्यंत केवल फल खाकर रहेंगे।

चोकर बाबा के विधानसभा क्षेत्र अमनौर में दूसरे चरण में वोटिंग होनी है। कहा ये जा रहा है कि इस बार चोकर बाबा को टिकट नहीं मिलेगी। पार्टी इस बार उनकी जगह कृष्ण कुमार मंटू को टिकट दे सकती है। 2015 के विधानसभा चुनावों में यहां 54 फीसदी वोटिंग हुई थी। बता दें मंटू वही हैं जिसे 2015 में शत्रुघन तिवारी ने 5251 वोटों के अंतर से हराया था। दोनों के बीच हार-जीत में करीब 4 फीसदी वोटों का अंतर था। 2015 में शत्रुघन तिवारी को 39134 वोट प्राप्त हुए थे। वहीं, जेडीयू के कृष्ण कुमार को 33883 वोट मिले थे।

बिहार के सारण जिले में आने वाले अमनौर विधानसभा सीट पर सिर्फ दो बार चुनाव हुए हैं। दरअसल, यह सीट 2008 के परिसीमन के बाद तरैया और मढ़ैरा विधानसभा क्षेत्रों से अलग होकर अस्तित्व में आई। इसके बाद इस सीट पर दो बार विधानसभा चुनाव हुए, जिसमें यह सीट 2010 में जेडीयू और 2015 में बीजेपी के खाते में गई। 2010 में जेडीयू उम्मीदवार कृष्ण कुमार मंटू ने निर्दलीय उम्मीदवार सुनील कुमार को 10 हजार से ज्यादा वोटों के अंतर से हराया था। वहीं, 2015 के चुनावों में बीजेपी के शत्रुघन तिवारी ने जेडीयू के कृष्ण कुमार मंटू को हराया था।

चोकर बाबा ने कहा कि वे सन्यासी की जिंदगी जीते हैं और अपना विरोध वे सन्यासी की तरह ही प्रकट करेंगे और आजीवन उनका सेवन नहीं करेंगे सिर्फ फल पर रहेंगे। उन्होंने पार्टी पर आंतरिक लोकतंत्र के खत्म होने का भी आरोप लगाया।

Related posts