बॉलीवुड को एक और बड़ी क्षति, अब इस मशहूर डायरेक्टर का हुआ निधन

basu chatterjee

चैतन्य भारत न्यूज

कोरोना संकट के बीच फिल्म इंडस्ट्री एक झटके से उबर नहीं पाती कि उसे दूसरा झटका लग जाता है। लगातार एक बाद एक कलाकार का निधन हो रहा है। बुधवार को ही वरिष्ठ गीतकार अनवर सागर के निधन की खबर मिली थी। अब गुरुवार को यानी आज सुबह गुदगुदाती रोमांटिक फिल्मों के भगवान कहे जाने वाले बासु चटर्जी का 93 वर्ष की उम्र में निधन हो गया है। इंडस्ट्री में उनकी पहचान बासु दा के रूप में थी। आज दो बजे उनका अंतिम संस्कार सांताक्रूज शमशान पर किया जाएगा।


बासु चटर्जी जे निधन की जानकारी फिल्मकार अशोक पंडित ने दी है। अशोक पंडित ने ट्वीट किया, ‘मैं यह बताते हुए बेहद दुखी हूं कि महान फिल्मकार बासु चटर्जी जी का निधन हो गया है। उनका अंतिम संस्कार आज दोपहर 2 बजे सांताक्रूज में किया जाएगा। यह फिल्म जगत के लिए एक बड़ी क्षति है। आपकी याद आएगी सर।’

बासु चटर्जी का जन्म 30 जनवरी 1930 को अजमेर में हुआ था। उन्होंने ‘छोटी सी बात’, ‘रजनीगंधा’, ‘बातों-बातों में’, ‘एक रुका हुआ फैसला’, ‘चमेली’, ‘पिया का घर’, ‘उस पार’, ‘चितचोर’, ‘स्वामी’, ‘खट्टा मीठा’, ‘प्रियतमा’, ‘चक्रव्यूह’, ‘जीना यहां’, ‘बातों बातों में’, ‘अपने प्यारे’, ‘शौकीन’ और ‘सफेद झूठ’ जैसी फिल्मों का निर्देशन किया था।

फिल्मों में बासु चटर्जी के योगदान के लिए 7 बार फिल्म फेयर अवॉर्ड और दुर्गा के लिए 1992 में नेशनल फिल्म अवॉर्ड भी मिला था। 2007 में उन्हें आईफा ने लाइफ टाइम अचीवमेंट अवॉर्ड से नवाजा था। 1969 से लेकर 2011 तक बासु दा फिल्मों के निर्देशन में सक्रिय रहे। बता दें कि हाल ही में बॉलीवुड के दो बड़े कलाकार ऋषि कपूर और इरफान खान का निधन हुआ था।

Related posts