श्रीलंका में हुए 8 बम धमाके, 185 लोगों की मौत, बढ़ सकती है मरने वालों की संख्या

srilanka bomb blast,srilanka,blast in srilanka

चैतन्य भारत न्यूज।

भारत का पड़ोसी देश श्रीलंका रविवार सुबह करीब पौने नौ बजे सीरियल बम धमाकों से दहल गया। सुबह से शाम चार बजे तक श्रीलंका में 8 धमाके हो चुके हैं। राजधानी कोलंबो सहित कई स्थानों पर हुए सीरियल बम धमाकों में 185  लोगों की मौत की पुष्टि हो गई है। मरने वालों की संख्या बढ़ सकती है। जानकारी के मुताबिक धमाकों में 3 चर्च समेत 6 जगहों को निशाना बनाया गया। इस बीच पूरे देश में शाम 6 बजे से सुबह 6 बजे तक कर्फ्यू का ऐलान कर दिया गया है। ईस्टर पर्व होने के नाते चर्च में आम रविवार से ज्यादा भीड़ थी। आशंका जताई जा रही है कि बम लगाने वालों का निशाना ईसाई थे।

srilanka blast

कोलंबो नेशनल हॉस्पिटल के डिप्टी डायरेक्टर ने 185 लोगों की मौत की पुष्टि की है। वहीं इन हमलों में 400 से अधिक लोगों के घायल होने की जानकारी मिल रही है। 35 विदेशी नागरिकों के मारे जाने की भी पुष्टि हुई है। अस्पताल के सूत्रों ने कहा कि विस्फोटों में अब तक कोलंबो में 42, नेगोंबो में 60 और बट्टिकालोआ में 27 लोग मारे गए हैं।

तीन चर्च के अलावा तीन फाइव स्टार होटलों में धमाके हुए हैं। कोच्चादाई स्थित सेंट एंथोनी, बट्टिकोला और नेगोंबो चर्च और कोलंबो में शांगरी ला स्टार, किंग्सबरी और सिनेमन ग्रांड होटलों में धमाके हुए हैं। श्रीलंका में इससे पूर्व आखिरी बड़ा हमला 13 साल पहले हुआ था। तब श्रीलंका में उग्रवादी संगठन लिट्टे सक्रिय था। हालांकि इस हमले की जिम्मेदारी अभी तक किसी संगठन ने नहीं ली है।

धमाकों के बाद श्रीलंका के प्रधानमंत्री रानिल विक्रमसिंघे ने आपात बैठक बुलाई है। सुरक्षा को देखते हुए कोलंबो में सेना के 200 जवानों को भी तैनात कर दिया गया है। श्रीलंका के राष्ट्रपति मैत्रीपाला सिरिसेना ने धमाकों पर शोक जताया और लोगों से शांति बनाए रखने की अपील की है। उन्होंने सुरक्षा एजेंसियोँ से जल्दी जांच करने और दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने को कहा है।

modi tweet on srilanka blast

भारतीय नेताओं की प्रतिक्रिया

कोलंबो में हुए सीरियल ब्लास्ट पर विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने ट्वीट कर कहा है कि हम पूरे हालात पर नजर बनाए हुए हैं। उधर,प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बम धमाकों की निंदा करते हुए ट्वीट किया है,”श्रीलंका में भयानक धमाकों की कड़ी निंदा करता हूं। इस तरह की बर्बरता की कोई जगह नहीं है। भारत श्रीलंका के लोगों के साथ है। मेरी संवेदनाएं पीड़ित परिवारों के साथ हैं और मैं घायलों के लिए प्रार्थना करता हूं। गौरतलब है कि ईस्टर संडे ईसाइयों का एक बड़ा पर्व होता है। इस दिन चर्च में बड़े पैमाने पर प्रार्थनाएं आयोजित होती है। कोलंबों के तीन चर्च में भी हजारों लोग ईस्टर की प्रार्थना के लिए इकट्ठा हुए थे।

 

Related posts