#BoysLockerRoom: स्कूली छात्र इंस्टाग्राम पर ग्रुप बनाकर करते थे अश्लील चैट, 1 गिरफ्तार, 21 सदस्यों की हुई पहचान

instaram boys locker room

चैतन्य भारत न्यूज

नई दिल्ली. सरकार द्वारा लगातार जारी प्रयासों के बाद भी देश भर में यौन अपराधों में कमी नहीं आ रही है। हाल ही में ऐसा ही एक मामला सामने आया है जिसमें इंस्टाग्राम पर एक ग्रुप बनाकर कुछ युवा यौन शोषण, रेप करने की बात करते हुए पाए गए हैं। इसे लेकर दिल्ली पुलिस ने केस दर्ज कर लिया है।

ग्रुप में की जाती थी गैंगरेप की बातें

ग्रुप का नाम ‘बॉयज लॉकर रूम’ था। ग्रुप में शामिल सभी लड़के कम उम्र के हैं। सभी नाबालिग ग्रुप पर अश्लील चैट करते थे। ये लोग ग्रुप में लड़कियों की तस्वीरें शेयर करते और उनके बारे में आपस में गंदी-गंदी बातें करते थे। इतना ही नहीं बल्कि इस ग्रुप में लड़कियों की फोटो डालकर गैंगरेप करने की बात की जा रही थी। एक ट्वीटर यूजर ने ग्रुप के स्क्रीन शॉट लेकर सोशल मीडिया पर डाल दिए। इसके बाद #boyslockerroom ट्विटर पर ट्रेंड करने लगा।

21 लोगों की पहचान हुई

इस मामले में पुलिस ने दिल्ली के एक स्कूल में पढ़ने वाले नाबालिग छात्र को भी पकड़ा है। इस छात्र की उम्र 15 साल बताई जा रही है। यह भी कहा जा रहा है कि लड़के का मोबाइल फोन बरामद किया गया है जिसके आधार पर पुलिस इस मामले में आगे की जांच कर रही है। ग्रुप से जुड़े बाकी करीब 21 लोग की पहचान भी हो चुकी है। उन सभी से पूछताछ होगी।

ग्रुप की सच्चाई कैसे आई सामने

अब सवाल उठता है कि इस ग्रुप की सच्चाई लोगों के सामने कैसे आई? तो आपको बता दें इस पूरे मामले का खुलासा दक्षिणी दिल्ली की एक लड़की ने किया। लड़की ने इंस्टाग्राम पर पोस्ट करते हुए लिखा, ‘दक्षिण दिल्ली के 17-18 साल की उम्र के लड़कों का एक ग्रुप है, जिसका नाम ‘बॉयज लॉकर रूम’ है, जहां कम उम्र लड़कियों की तस्वीरों के साथ छेड़छाड़ कर आपत्तिजनक बनाया जा रहा था। मेरे स्कूल के दो लड़के इसका हिस्सा हैं।’

एक्शन में महिला आयोग

मामला सामने आने के बाद दिल्ली पुलिस ने तो केस दर्ज किया ही और साथ ही दिल्ली महिला आयोग भी एक्शन में आ गया। दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल ने इस मामले में इंस्टाग्राम के साथ-साथ दिल्ली पुलिस को भी नोटिस जारी किया। स्वाति मालीवाल ने कहा कि, ‘हमने दिल्ली पुलिस और इंस्टाग्राम को नोटिस जारी कर दिया है। ये लड़के जल्द से जल्द गिरफ्तार होने चाहिए।’ बता दें इस मामले की जांच दिल्ली पुलिस के साइबर अपराध सेल ने शुरू कर दी है।

 

Related posts