पहली बार लैब में तैयार हुआ ‘मां का दूध’, जानें कब आएगा बाजार में

world breastfeeding week,mother milk bank

चैतन्य भारत न्यूज

नवजात शिशु के लिए मां का दूध संपूर्ण आहार माना गया है। विशेषज्ञों के मुताबिक बच्चे की अच्छी शारीरिक और मानसिक विकास के लिए कम से कम 4 से 6 महीने तक केवल मां का दूध ही देना चाहिए। हालांकि, किसी कारणवश कुछ बच्चों को मां का दूध उपलब्ध नहीं हो पाता है। अपने बच्चों को मां का दूध नहीं पिला पाने वाले दुनियाभर के लाखों माता-पिता के लिए बहुत अच्छी खबर है।

दूध में मौजूद हैं ये तत्व

वैज्ञानिकों ने लैब में मां का दूध तैयार कर लिया है। वैज्ञानिकों ने इसे ‘बॉयोमिल्क’ कहा है। बायोमिल्क ने महिलाओं की ब्रेस्ट की कोशिकाओं से दूध को तैयार करने में कामयाबी पाई है। कंपनी का कहना है कि लैब में तैयार किए गए इस दूध में काफी हद तक वे सभी पौष्टिक तत्व हैं जो आमतौर पर ब्रेस्ट मिल्क में पाए जाते हैं। जैसे कि प्रोटीन, कॉम्प्लेक्स कार्बोहाइड्रेट, बायोएक्टिव लिपिड्स आदि।

बॉयोमिल्क को बनाने वाली कंपनी का कहना है कि यह मां के दूध के तत्वों से बढ़कर है। इस कंपनी की सह संस्थापक और मुख्य विज्ञान अधिकारी लैला स्ट्रिकलैंड ने कहा, ‘हमारा ताजा काम ने यह दिखा दिया है कि इसे बनाने वाली कोशिकाओं के बीच कठिन रिश्तों को दोहराकर और दूध पिलाने के दौरान शरीर में होने वाले अनुभवों को मिलाकर दूध की ज्यादातर जटिलता को हासिल किया जा सकता है।’

ऐसे आया मां का दूध बनाने का विचार

मां के दूध को बनाने का आइडिया उस समय आया जब लैला स्ट्रिकलैंड का बच्चा जल्दी पैदा हो गया और उन्हें उसे दूध पिलाने में दिक्कतों का सामना करना पड़ा। लैला स्ट्रिकलैंड एक कोशिका जीवविज्ञानी हैं। उनके शरीर के अंदर बच्चे को पिलाने के लिए दूध नहीं बन पाया। उन्होंने काफी प्रयास किया लेकिन वह असफल रहीं। इसके बाद उन्होंने वर्ष 2013 में प्रयोगशाला के अंदर मेमरी कोशिकाओं को पैदा करना शुरू किया। इसके बाद वर्ष 2019 में उन्होंने फूड विज्ञानी मिशेल इग्गेर के साथ साझेदारी की।

फिर दोनों ने मिलकर अपना स्टार्टअप बॉयोमिल्क लॉन्च किया। फरवरी वर्ष 2020 में दोनों वैज्ञानिकों ने घोषणा की कि लैब में पैदा हुई मेमरी कोशिकाओं ने दूध में पाए जाने वाले दो मुख्य पदार्थों शर्करा और केसीन को बना दिया है। इसके बाद मां का दूध बनाने का रास्ता साफ हो गया। वैज्ञानिकों ने बताया कि अगले तीन साल में यह दूध बाजार में आ जाएगा।

Related posts