आज है बुध प्रदोष व्रत, इस विधि से करें पूजा करने से मिलेगी नौकरी में तरक्की

pradosh vrat 2020,pradosh vrat

चैतन्य भारत न्यूज

शास्त्रों में प्रदोष व्रत भगवान शिव की विशेष कृपा पाने का दिन है। हिन्दू कैलेंडर के अनुसार प्रदोष व्रत त्रयोदशी के दिन रखा जाता है। प्रत्येक महीने में दो प्रदोष व्रत होते हैं, जो दिन के नामानुसार जाने जाते हैं। इस बार यह तिथि 14 अक्टूबर, बुधवार को है। जो प्रदोष व्रत बुधवार के दिन पड़ता है उसे बुध प्रदोष कहते हैं। बुध प्रदोष व्रत से कोई भी कर्ज से मुक्ति पाने के साथ ही नौकरी में अपनी तरक्की के रास्ते खोल सकता है।



pradosh vrat 2020,pradosh vrat

बुध प्रदोष व्रत का महत्व

शास्त्रों में प्रदोष व्रत भगवान शिव की विशेष कृपा पाने का दिन है, जो प्रदोष व्रत बुधवार के दिन पड़ता है उसे बुध प्रदोष कहते हैं। मान्यता है कि बुध प्रदोष व्रत करने से भगवान शिव प्रसन्न होते हैं और उनकी कृपा से सभी तरह के कष्ट दूर हो जाते हैं। यह व्रत सभी मनोकामनाएं को पूर्ण करने वाला है। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार बुधवार का दिन भगवान गणेश का होता है, इस तिथि पर उनके पिताजी भगवान शिव की पूजा करने से गणपति भी खुश होते हैं और अपना आशीर्वाद देते हैं।

pradosh vrat 2020,pradosh vrat

बुध प्रदोष व्रत पूजन-विधि

  • इस दिन सूर्योदय से पूर्व स्नान कर व्रत का संकल्प लें।
  • प्रदोष पूजा शाम के समय होती है।
  • पूरे दिन उपावस रखने के बाद सूर्यास्त से पहले स्नानादि कर श्वेत वस्त्र धारण करें।
  • पूजन स्थल को शुद्ध करने के बाद गाय के गोबर से लीपकर, मंडप तैयार करें।
  • इस मंडप में पांच रंगों का उपयोग करते हुए रंगोली बनाएं।
  • उत्तर-पूर्व दिशा की ओर मुख करके बैठें और भगवान शिव का पूजन करें।
  • भगवान शिव को बेल पत्र, पुष्प, धूप-दीप और भोग आदि चढाएं।
  • प्रदोष व्रत की आराधना करने के लिए कुशा के आसन का प्रयोग करें।
  • पूजा के दौरान भगवान शिव के मंत्र ‘ऊँ नम: शिवाय’ का जाप करते रहे।
  • अंत में प्रदोष व्रत कथा सुनकर शिव जी की आरती उतारें।

 

ये भी पढ़े…

भगवान शिव और माता पार्वती को प्रसन्न करने के लिए इस विधि से करें पूजा

माता पार्वती ने भगवान शिव को पाने के लिए रखा था ये कठोर व्रत

भगवान शिव के इस रहस्यमयी मंदिर में चढ़ाने के बाद दूध सफेद से हो जाता है नीला

Related posts