चक्रवाती तूफान ‘बुलबुल’ ने ओडिशा तट पर मचाई तबाही, तेज हवा ने सैकड़ों पेड़ों को उखाड़ फेंका

bulbul cyclone

चैतन्य भारत न्यूज

भुवनेश्वर. बंगाल की खाड़ी में उठे चक्रवात तूफान ‘बुलबुल’ ने ओडिशा में तबाही मचा दी है। शनिवार को इस प्रचंड तूफान के प्रभाव से कई तटीय जिलों में भारी बारिश के साथ ही काफी तेज हवा चल रही है। ओडिशा में तबाही मचाने के बाद बुलबुल तूफान पश्चिम बंगाल और बांग्लादेश की तरफ बढ़ रहा है।


बुलबुल तूफान के भयानक रूप ने बढ़ाई चिंता

बता दें शुक्रवार को बुलबुल तूफान के भयानक रूप लेने की आशंका ने चिंता बढ़ा दी थी। मौसम विभाग के वैज्ञानिकों ने बताया था कि, ‘शनिवार को चक्रवाती तूफान बुलबुल तेज होते हुए अगले कुछ घंटे में उत्तर की ओर बढ़ेगा। इसके बाद यह तूफान उत्तर-पूर्व की तरफ घूमेगा और फिर पश्चिम बंगाल को पार करते हुए बांग्लादेश के सागर द्वीप और खेपूपारा के बीच तटों से टकराने की संभावना है।’ जानकारी के मुताबिक, दक्षिण-पश्चिम में सागर द्वीप से तूफान लगभग 230 किमी की दूरी पर, दक्षिण-पूर्व में खेपुपारा (बांग्लादेश) से 370 किमी और पूर्व-दक्षिण पूर्व के पारादीप से 130 किमी की दूरी पर केंद्रित है।

तूफान ने सैकड़ों पेड़ों को जड़ से उखाड़ फेंका

बुलबुल के कारण शनिवार सुबह से ही ओडिशा के कई हिस्सों में भारी बारिश हो रही है। तूफान ने सैकड़ों पेड़ों को जड़ से उखाड़ फेंका है। एनडीआरएफ, ओडीआरएएफ, पुलिस और अग्निशमन कर्मी सड़कों पर गिरे पेड़ों को उठाने में जुटे हैं, जिससे कि यातायात व्यवस्था सुचारू हो सके। मौसम विभाग ने शुक्रवार को पश्चिम बंगाल तट के लिए ऑरेंज अलर्ट जारी किया था। जिसके बाद राज्य के उत्तरी तटीय जिलों में 1000 से ज्यादा लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया था। बता दें ओडिशा में हवा की तीव्रता 70-80 किमी प्रति घंटा दर्ज की गई है।

महा तूफान हुआ कमजोर

गौरतलब है कि बुलबुल के अलावा अरब सागर से ‘महा’ तूफान भी गुजरात की ओर बढ़ रहा था। हालांकि, शुक्रवार को वह कमजोर पड़ने लगा। महा तूफान का असर मुंबई और उसके आसपास के इलाकों में देखने को मिला। वहां भारी बारिश हुई। कुछ इलाकों में बिजली और गरज के साथ बौछारें पड़ीं।

ये भी पढ़े…

कमजोर पड़ा महा चक्रवात, अगले 24 घंटे में दिखेगा बुलबुल तूफान का प्रचंड रूप

चक्रवाती तूफान महा और बुलबुल ने देश को दो तरफ से घेरा, चिंता में लोग

जापान में सबसे ताकतवर तूफान हगिबीस ने मचाई तबाही, गुलाबी हुआ आसमान, अब तक 8 की मौत, 110 से ज्यादा जख्मी

बांग्लादेश ने रखा चक्रवाती तूफान का नाम फैनी, आप भी जानिए कैसे तय होते हैं तूफानों के नाम

Related posts