दिवाली पर भारतवासियों में जागी देश प्रेम की भावना, चीन को लगा 40 हजार करोड़ का झटका!

चैतन्य भारत न्यूज

कोरोना संकट के बीच देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश को आत्मनिर्भर बनाने के लिए ‘वोकल फॉर लोकल’ की अपील है। खासकर दिवाली से ठीक पहले पीएम मोदी ने देशवासियों से इस त्योहार में स्थानीय वस्तुएं खरीदने की अपील की थी। अब पीएम मोदी की इस अपील पर लोगों ने विदेशी सामानों का बहिष्कार किया। इस दिवाली चीन को कारोबार के मोर्चे पर तगड़ा झटका लगा है।

देश के लोगों ने दिवाली पर चीनी सामानों का जमकर बहिष्कार किया। कारोबारियों के संगठन कन्फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) के मुताबिक, इस त्योहारी सीजन में कारोबार के मोर्चे पर सीधे तौर पर चीन को करीब 40 हजार करोड़ रुपए का नुकसान उठाना पड़ा है। इस त्योहारी सीजन में लोग चाइनीज प्रोडक्ट्स को नजरअंदाज करते दिखे।

एक विज्ञप्ति में कहा गया है कि कैट के नेतृत्व में देशभर के व्यापारियों ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के ‘वोकल फॉर लोकल’ और आत्मनिर्भर भारत के आह्वान को मजबूती से लागू किया। दिवाली पर खरीद-बिक्री के आंकड़े शानदार रहे। लेकिन लोगों ने चाइनीज प्रोडक्ट का खुले तौर पर विरोध किया।

कैट के राष्ट्रीय अध्यक्ष बी सी भरतिया और राष्ट्रीय महामंत्री प्रवीन खंडेलवाल ने जानकारी दी है कि देश के 20 अलग-अलग शहरों से प्राप्त रिपोर्ट के मुताबिक इस दीवाली के त्योहारी सीजन के दौरान देशभर में करीब 72 हजार करोड़ रुपए का कारोबार हुआ। लेकिन चीन को सीधे तौर पर करीब 40 हजार करोड़ रुपए का नुकसान उठाना पड़ा।

व्यापारियों के संगठन कैट के मुताबिक रिटेल व्यापार के विभिन्न वर्गों में अच्छा कारोबार हुआ। भारत में बने एफएमसीजी उत्पाद, उपभोक्ता वस्तुओं, खिलौने, बिजली के उपकरण और सामान, रसोई के सामान, उपहार की वस्तुओं, मिठाई, नमकीन, घर का सामान, बर्तन, सोना और गहने, जूते, घड़ियां, फर्नीचर, कपड़े, घर की सजावट का सामान, मिट्टी के दीए सहित दीवाली पूजा का सामान जैसी वस्तुओं की बिक्री अच्छी रही।

वहीं इस त्योहारी सीजन में खादी उत्पादों की रिकॉर्ड बिक्री का आंकड़ा सामने आया है। इस साल दो अक्टूबर के बाद से केवल 40 दिनों में ही दिल्ली के कनॉट प्लेस स्थित खादी इंडिया के प्रमुख आउटलेट पर खादी की एक-दिन की बिक्री का आंकड़ा चौथी बार एक करोड़ रुपये की सीमा पार कर गया है।

13 नवंबर को इस आउटलेट की कुल बिक्री 1.11 करोड़ रुपए रही, जो इस साल किसी एक दिन में सबसे बड़ी बिक्री का आंकड़ा है। खादी की बिक्री का आंकड़ा इस साल गांधी जयंती (दो अक्टूबर) को 1.02 करोड़ रुपये और 24 अक्टूबर को 1.05 करोड़ रुपए और सात नवंबर को 1.06 करोड़ रुपए पर पहुंच गया।

Related posts