वाहनों पर ‘जातिसूचक’ शब्द लिखवाने वाले के खिलाफ होगी कार्रवाई, जब्त होगी गाड़ी और कटेगा भारी चालान

चैतन्य भारत न्यूज

यदि आप उत्तर प्रदेश में अपनी बाइक या कार पर अपनी जाति लिखवाते हैं तो जरा सावधान हो जाइए। आप तुरंत अपनी गाड़ी से इसे हटा दें वरना आपकी गाड़ी सीज हो सकती है। दरअसल, यूपी में कार, बाइक, बस, ट्रक, ट्रैक्टर और ई रिक्शा पर राजपूत, ब्राह्मण, यादव, जाट, क्षत्रिय समेत तमाम जाति सूचक शब्द हर रोज नजर आते हैं। लोग अपनी गाड़ियों पर बड़े-बड़े शब्दों में जाति लिखवा लेते हैं। लेकिन अब से ऐसी गाड़ियों पर पुलिस की नजर रहेगी। यदि गाड़ी पर इस तरह का जातिसूचक नाम लिखा है, तो ट्रैफिक पुलिस आपके खिलाफ कार्रवाई कर सकती है।

महाराष्ट्र के एक शिक्षक ने लिखा पत्र

दरअसल, महाराष्ट्र के शिक्षक हर्षल प्रभु ने पीएम मोदी को खत लिखा था, IGRS पर, जिसमें उन्होंने यूपी में दौड़ते जातिवादी वाहनों को सामाजिक ताने-बाने के लिए खतरा बताया था। PMO ने ये शिकायत यूपी सरकार को भेजी थी। इसके बाद उत्तर प्रदेश के अपर परिवहन आयुक्त ने जाति लिखे वाहनों के खिलाफ राज्य में अभियान चलाने और उन्हें जब्त करने का आदेश दिया।

सक्सेना जी का कटा चालान

लखनऊ में जातिसूचक शब्द वाहनों पर लिखने के मामले में सबसे पहला चालान ‘सक्सेनाजी’ लिखी कार का काटा गया। नाका कोतवाली की पुलिस ने यह चालान रविवार को दुर्गापुरी मेट्रो स्टेशन के पास बने चेक पोस्ट पर किया। यह कार कानपुर के आशीष सक्सेना की है। पुलिस ने यह कार्रवाई प्रधानमंत्री कार्यालय से जारी जातिसूचक शब्दों के वाहनों पर इस्तेमाल पर रोक लगाने के आदेश के बाद की।

गुप्ता जी ने मांगी माफी

नोयडा सेक्टर 18 में पुलिस ने ऐसी कई बाइक पकड़ी जिन्होंने अपनी जाति बाइक पर लिख रखी थी। बाइक पर गुप्ता जी लिखवाकर एक शख्स आराम से घूम रहे थे लेकिन जैसे ही पुलिस को देखा, लगे भागने। पुलिस ने फौरन उन्हें धर दबोचा। पूछने पर बोले, ‘गलती हो गई, अब कभी अपनी जाति वाहन पे नहीं लिखूंगा, माफ कर दो।’ साथ ही बाइक पर लिखी जाति सूचक शब्द को फौरन ही बाइक से हटा दिया।

गाड़ियों के नंबर प्लेट पर क्या क्या नहीं लिख सकते हैं ?

जवाब – देखिये CMVR – CENTRAL MOTOR VEHICLE RULES हमें ये बताता है कि हमारी गाड़ी और उस पर नंबर प्लेट कैसी होनी चाहिए। रूल्स में साफ साफ ये बताया गया है कि गाड़ी की नंबर प्लेट कैसी होनी चाहिए। उस पर निर्धारित फॉर्मेट के अतिरिक्त कुछ भी नहीं लिखा होना चाहिए। मोटर व्हीकल एक्ट की धारा 177 में इसके लिए दंड का प्रावधान किया गया है। पहली बार उल्लंघन करने पर 500 रुपये और दूसरी बार करने पर 1500 रुपए का चालान काटा जाएगा।

धारा 177 में कई वाहनों के चालान कटे

पुलिस ने वाहनों पर जाति सूचक शब्द होने पर धारा 177 में कई वाहनों के चालान किए और कुछ को सीज किया। दूसरी तरफ आम जनता का कहना है कि लोग ना जाने क्यों अपनी जाति को कार या वाहन पर लिखते हैं। ये सामाजिक ताने-बाने के लिए गलत है। समाज में सभी जाति एक समान है। फिलहाल पुलिस लोगों को जागरूक भी कर रही है। साथ ही चेतावनी भी दे रही है और ना मानने पर चालान भी कर रही है ताकि लोग अपने वाहन पर जाति सूचक शब्द ना लिखें।

 

Related posts