गुरु नानक जयंती : जानिए गुरु नानक देव की जिंदगी से जुड़ी कुछ खास बातें और उनके मूल मंत्र

guru nanak jayanti,guru nanak jayanti 2019,kab hai guru nanak jayanti

चैतन्य भारत न्यूज सिख धर्म के संस्थापक और सिखों के पहले धर्मगुरु गुरु नानक देव की 551वीं जयंती 30 नवंबर को मनाई जा रही है। हर साल कार्तिक मास की पूर्णिमा को यह प्रकाश का पर्व मनाया जाता है। यूं तो उनका जन्म 15 अप्रैल, 1469 को श्री ननकाना साहिब (पाकिस्तान) में हुआ था, लेकिन उनकी जयंती हर वर्ष कार्तिक पूर्णिमा के दिन प्रकाश पर्व के रूप में मनाई जाती है। नाना साहब ने पाकिस्तान के करतारपुर साहब की नींव रखीं। यह सिखों में सबसे पवित्र तीर्थस्थलों में से एक…

कार्तिक पूर्णिमा और देव दिवाली आज, जानिए महत्व, पूजन-विधि और शुभ-मुहूर्त

kartik purnima 2019,kartik purnima ka mahatav,kartik purnima pujan vidhi,

चैतन्य भारत न्यूज हिंदू धर्म में कार्तिक पूर्णिमा सभी पूर्णिमाओं में श्रेष्‍ठ मानी जाती है। मान्‍यता है कि इस दिन भगवान शिव ने देवलोक पर हाहाकार मचाने वाले त्रिपुरासुर नाम के राक्षस का संहार किया था। हर साल इस पूर्णिमा के दिन देव दिवाली भी मनाई जाती है। एक मान्यता यह भी है कि इसी दिन भगवान विष्णु ने मतस्यावतार लिया था। बता दें इस साल देव दिवाली या कार्तिक पूर्णिमा 30 नवंबर को मनाई जाएगी। आइए जानते हैं कार्तिक पूर्णिमा का महत्व, शुभ-मुहूर्त और पूजन-विधि। कार्तिक पूर्णिमा का महत्‍व…

कार्तिक पूर्णिमा पर क्यों की जाती है तुलसी पूजा और गंगा स्नान, जानिए पौराणिक मान्यता

kartik purnima 2019,kartik purnima ka mahatava,kartik purnima vrat

चैतन्य भारत न्यूज हिंदू धर्म में कार्तिक पूर्णिमा को काफी महत्वपूर्ण माना गया है। यह पर्व हर साल कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा को आता है। इस साल कार्तिक पूर्णिमा 30 नवंबर को मनाई जा रही है। इस खास दिन नदियों में स्नान, दीपदान, भगवान विष्णु और शिव जी की पूजा और दान का बहुत बड़ा महत्व माना गया है। इसे दीप दिवाली भी कहा जाता है। कार्तिक पूर्णिमा पर तुलसी पूजा का भी विशेष महत्व है। आइए जानते हैं कार्तिक पूर्णिमा के शुभ संयोग, तुलसी पूजा का…

कल है साल 2020 का आखिरी चंद्रग्रहण, जरूर बरतें ये सावधानियां

chandra grahan,chandra grahan 2020,

चैतन्य भारत न्यूज साल 2020 का आखिरी चंद्रग्रहण 30 नवंबर को है। कार्तिक मास की पूर्णिमा तिथि को पड़ने वाला यह ग्रहण कुल 04 घंटे 18 मिनट 11 सेकंड तक रहेगा। जबकि, 3:13 मिनट पर यह अपने चरम पर होगा। यह चंद्र ग्रहण भारत, अमेरिका, ऑस्ट्रेलिया, प्रशांत महासागर और एशिया में दिखाई दे सकता है। चंद्रग्रहण में कुछ सावधानियां बरतने की सलाह दी जाती है जो इस प्रकार है। ग्रहण को कैसे देख सकते हैं चंद्रग्रहण को देखने के लिए आपको किसी भी विशेष प्रकार की सावधानी बरतने की जरूरत…

मां लक्ष्मी को प्रसन्न करने के लिए देव दिवाली पर जरूर करें इन नियमों का पालन

चैतन्य भारत न्यूज  हिंदू धर्म में कार्तिक पूर्णिमा का विशेष महत्व है। इस दिन स्नान और दान को बहुत महत्वपूर्ण माना गया है। कार्तिक पूर्णिमा के दिन ही देव दिवाली का पर्व मनाया जाता है। मान्यताओं के मुताबिक, इस दिन शंकर भगवान ने राक्षस त्रिपुरासुर का वध किया था। इसी खुशी में देवताओं ने स्वर्ग लोक में दीपक जलाकर जश्न मनाया था। इसके बाद से हर साल इस दिन को देव दिवाली के रूप में मनाया जाता है। इस दिन मां लक्ष्मी की पूजा का विशेष महत्व होता है। इस…

आज है बैकुंठ चतुर्दशी, करें भगवान विष्णु और शिव की पूजा, जानें इसका महत्व और पूजा-विधि

vaikuntha chaturdashi,vaikuntha chaturdashi 2019,vaikuntha chaturdashi ka mahatava,vaikuntha chaturdashi pujan vidhi

चैतन्य भारत न्यूज कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की चतुर्दशी को बैकुंठ चतुर्दशी के नाम से जाना जाता है। इस बार ये चतुर्दशी 29 नवंबर को पड़ रही है। हिन्दू मान्यातओं के अनुसार इस दिन भगवान विष्णु और शिव जी की पूजा का विधान है। इस दिन व्रत रखने का भी विशेष महत्व होता है। आइए जानते हैं इस व्रत का महत्व और पूजन-विधि। बैकुंठ चतुर्दशी का महत्व मान्यताओं के मुताबिक, एक बार विष्णु जी ने काशी में शिव भगवान को एक हजार स्वर्ण कमल के पुष्प यानी फूल चढा़ने…

शनिवार को इस विधि से करेंगे पूजा और इन मंत्रों का करेंगे जाप तो जरूर प्रसन्न होंगे कर्म फलदाता शनिदेव

shani,bhagwan shani

चैतन्य भारत न्यूज हिंदू धर्म में शनिवार के दिन कर्म फलदाता शनिदेव के पूजन को शुभ माना गया है। कहते हैं शनिवार को विधि पूर्वक किए गए पूजा-पाठ और शुभ काम जल्दी सिद्ध हो सकते हैं। शनिवार को शनिदेव की विशेष पूजा अर्चना की जाती है। कहा जाता है कि यदि शनिदेव को प्रसन्न कर दिया तो व्यक्ति के जीवन में सभी कष्ट खत्म हो जाते हैं। शनिवार के दिन कुछ विशेष मंत्रों के साथ शनिदेव का पूजन किया जाए तो भगवान प्रसन्न होते हैं और भक्तों को आशीर्वाद देते…

आज है प्रदोष व्रत, जानिए इसका महत्व और पूजा विधि

pradosh vrat puja vidhi

चैतन्य भारत न्यूज हिन्दू धर्म में प्रदोष व्रत को बहुत ही महत्वपूर्ण माना गया है। प्रदोष व्रत में भगवान शिव की आराधना की जाती है। मान्यता है कि प्रदोष के दिन भगवान शिव की पूजा करने से व्यक्ति के सभी पाप धुल जाते हैं और उसे मोक्ष प्राप्त होता है। इस दिन भगवान शिव की पूजा के साथ-साथ माता पार्वती की भी पूजा की जाती है। प्रदोष व्रत से मिलने वाला फल प्रदोष के दिन पूजा-पाठ और दान करने का काफी महत्व है। इस व्रत को करने से कर्ज से…

गुरुवार को पूजा-पाठ करने से हर बिगड़े काम बन जाएंगे, बस करना होंगे ये 10 सरल उपाय

guruvar,guruvar pooja vidhi,guruvar vrat

चैतन्य भारत न्यूज गुरुवार का दिन भगवान विष्णु, साई बाबा और बृहस्पति देव का होता है। बृहस्पति देव को गुरु माना जाता है और उनकी पूजा-अर्चना करने से कुंडली के सभी दोष खत्म हो जाते हैं। गुरुवार को केले के पेड़ की पूजा करने से भी विशेष फल की प्राप्ति होती है। बच्चों को खासतौर से ये पूजा करनी चाहिए क्योंकि बृहस्पति को बुद्धि का कारक माना जाता है और उनकी कृपा से बच्चों की बुद्धि का विकास होता है। हम आपको आज ऐसे दस सरल उपाय बता रहे हैं…

चार महीने बाद आज योगनिद्रा से जागेंगे भगवान विष्णु, जानिए देवउठनी एकादशी का महत्व, पूजन-विधि और मंत्र

dev uthani ekadashi,dev uthani ekadashi 2019, dev uthani ekadashi ka mahatava,dev uthani ekadashi pujan vidhi

चैतन्य भारत न्यूज हिंदू धर्म में देवउठनी एकादशी का काफी महत्व है। इस साल देवउठनी एकादशी 25 नवंबर को पड़ रही है। इस दिन उपवास रखने का विशेष महत्व है। कहते हैं इससे मोक्ष की प्राप्ति होती है। हिंदू मान्‍यताओं के मुताबिक, सृष्टि के पालनहार श्री हरि विष्‍णु चार महीने तक सोने के बाद देवउठनी एकादशी के दिन जागते हैं। इसी दिन भगवान विष्‍णु शालीग्राम रूप में तुलसी से विवाह करते हैं। आइए जानते हैं इस व्रत का महत्व और पूजन-विधि। देवउठनी एकादशी का महत्व देवउठनी एकादशी को देवोत्थान एकादशी…