अहंकारी रावण के ये हैं वो 5 योगदान, जिन्हें बनाया गया धर्मशास्त्र का हिस्सा

ravan

चैतन्य भारत न्यूज लंकापति रावण को सिर्फ उसके अहंकार और बुराइयों ने नष्ट कर दिया, वरना रावण जितना ज्ञानी और कोई नहीं था। रावण की बुराइयों के चलते उसे पूरी दुनिया नकारात्मक छवि से देखती है। लेकिन आपको बता दें कि रावण एक विद्वान और प्रकांड पंडित था और उसने धर्मशास्त्र को भी बहुत कुछ दिया हैं। आइए जानते हैं रावण के वो 5 योगदान के बारे में, जो धर्मशास्त्र का हिस्सा बने। शिव तांडव स्त्रोत लिखा था पौराणिक कथाओं के मुताबिक, एक बार तो रावण इतना ज्यादा अहंकारी बन…

तेलंगाना के यदाद्री मंदिर का पुनर्निर्माण 1800 करोड़ में, 39 किलो सोना और 1753 टन चांदी से मढ़ी जाएंगी दीवारें

चैतन्य भारत न्यूज हैदराबाद. आंध्रप्रदेश से अलग होने के बाद साल 2014 से ही तेलंगाना में मंदिरों की कमी हो गई थी। विभाजन के बाद दुनियाभर में प्रसिद्ध तिरुमाला तिरुपति मंदिर आंध्रप्रदेश के हिस्से में चला गया था। ऐसे में तेलंगाना सरकार ने इस कमी को पूरा करने के लिए 1800 करोड़ रुपए की लागत से एक महत्वपूर्ण स्थान, यदाद्री लक्ष्मी-नरसिम्हा मंदिर को भव्य रूप दिया है। यह मंदिर यदाद्रीगिरीगुट्टा के नाम से भी प्रसिद्द है। जानकारी के मुताबिक, इस साल के अंत तक तेलंगाना को भी अपना ‘तिरुपति मंदिर’…

तमिलनाडु में खुदाई में मिली 2600 साल पुरानी दीवार

diwar

चैतन्य भारत न्यूज मदुरई. तमिलनाडु के शिवगंगा जिले के किलाड़ी में केंद्रीय पुरातत्व सर्वेक्षण द्वारा की जा रही खुदाई में 2600 साल पुरानी संगम सभ्यता से जुड़ी एक दीवार मिली है। दीवार चार ईंटों से बनी है। केंद्रीय पुरातत्व सर्वेक्षण द्वारा 2015 से यहां उत्खनन करवाया जा रहा है। वैगई नदी के तट पर स्थित इस गांव में चल रहे उत्खनन में अब तक कलाकृतियों समेत 14,500 वस्तुओं का पता लगा है। कार्बन डेटिंग (कार्बन क्षय द्वारा उम्र का पता लगाने की विधि) से पता चला है कि यह संगम…

खजराना गणेश मंदिर में मन्नत पूरी करने के लिए शास्त्रों के विपरीत काम करते हैं भक्त, 3 करोड़ का सोना पहनते हैं भगवान

khajrana ganesh mandir

चैतन्य भारत न्यूज गणेश चतुर्थी की शुरुआत हो चुकी हैं। इस मौके पर हम आपको रोजाना भगवान गणेश के विश्वभर में प्रसिद्द कुछ खास मंदिरों के बारे में बताएंगे। इस कड़ी में हम आपको आज खजराना गणेश मंदिर के बारे में बता रहे हैं जो मध्य प्रदेश के इंदौर में स्थित है। यह मंदिर दुनियाभर के सबसे प्रसिद्द गणेश मंदिरों में से एक है। इस प्राचीन मंदिर का निर्माण अहिल्या बाई होल्कर ने कराया था। खजराना गणेश मंदिर में गणपति जी केवल सिंदूर से स्थापित किए गए हैं। मान्यता है…

प्रेम कहानी की याद में यहां दो गांव एक-दूसरे पर बरसाते हैं पत्थर, अब तक 13 लोगों की हुई मौत!

gotmar mela 2019 photos

चैतन्य भारत न्यूज छिंदवाड़ा. मध्य प्रदेश के छिंदवाड़ा जिले में सावरगांव और पांढुर्णा के बीच शनिवार को ऐसा युद्ध हुआ जिसमें दोनों तरफ से पत्थर ही पत्थर बरसे। पत्थरबाजी वाले इस युद्ध में खून-खराबा भी होता है। स्थानीय लोगोंं के लिए तो ये एक प्रथा है तो लेकिन अन्य लोग इसे कुप्रथा मानते हैंं। पांढुर्णा में हर साल पोला त्योहार के दूसरे दिन लगने वाले इस मेले का नाम ‘गोटमार मेला’ है। यह मेला जाम नदी के पास में लगता है। इस बार भी पुलिस और प्रशासन की तगड़ी सुरक्षा…

शाकाहारी मगरमच्छ करता है इस मंदिर की रखवाली, खाता है सिर्फ प्रसाद

kasargod ananthapura temple crocodile

चैतन्य भारत न्यूज हमारा देश कई रहस्यों और मान्यताओं से भरा है। यहां हर राज्य में कुछ ना कुछ ऐसा पाया जाता है जिसपर यकीन कर पाना मुश्किल होता है। हम आपको आज एक मंदिर के ऐसे चमत्कार के बारे में बता रहे हैं जिस पर आपको भी यकीन करना मुश्किल होगा। केरल के एक मंदिर की झील में ऐसा मगरमच्छ रहता है जो पूरी तरह से शाकाहारी है। जी हां… और इतना ही नहीं बल्कि वो मगरमच्छ मंदिर की रखवाली भी करता है। ये हैरान कर देने वाला मामला…

यहां फल और पत्थरों से खेला जाता है युद्ध, उत्तराखंड के देवीधुरा स्थित मंदिर में अनूठी परंपरा

चैतन्य भारत न्यूज देहरादून. उत्तराखंड के चंपावत जिले में देवीधुरा स्थित मां बाराही देवी के मैदान में फल, फूल और पत्थरों से युद्ध लड़ने की अनूठी परंपरा है। हर साल रक्षाबंधन के दिन इसका आयोजन किया जाता है। इसे  ‘बग्वाल’ कहा जाता है। गुरुवार को हुआ यह युद्ध करीब नौ मिनट चला। इसमें 122 योद्धा मामूली रूप से घायल हो गए। इसमें भक्त परंपरा के मुताबिक लोग आपस में पत्थरों से लड़ाई करते है। मान्यता है कि मंदिर में नर बलि की परंपरा थी जिसके बाद आधुनिक रूप में यह…

आज फिर 40 सालों के लिए जल समाधि ले लेंगे भगवान अती वरदार, 1 करोड़ से ज्यादा भक्तों ने किए दर्शन

bhagwan athi varadar,tamilnadu

चैतन्य भारत न्यूज तमिलनाडु के सबसे पुराने शहरों में से एक कांचीपुरम में पिछले डेढ़ महीने से करीब 90 लाख लोग आ चुके हैं। इसका कारण भी बेहद खास है। दरअसल यहां जो भगवान हैं वह 40 सालों में एक बार कुछ दिनों के लिए भक्तों को दर्शन देने जल समाधि से बाहर आते हैं। इस मंदिर का नाम है वरदराजा स्वामी मंदिर। वरदराजा स्वामी मंदिर में भगवान विष्णु के अवतार अती वरदार की प्रतिमा को तालाब से 40 साल में एक बार निकाला जाता है। फिर प्रतिमा को 48…

40 सालों में एक बार जल समाधि से बाहर निकलते हैं भगवान अती वरदार, 48 दिन भक्तों को देते हैं दर्शन

bhagwan athi varadar,tamilnadu

चैतन्य भारत न्यूज भारत के हर राज्य में अलग-अलग परंपराएं निभाई जाती हैं। यहां हर चार कदम पर भाषा और लोगों के रहन-सहन में बदलाव हो जाता है। हमारे देश में कई तरह के रीति-रिवाज भी देखने को मिलते हैं। दक्षिण से लेकर उत्तर भारत तक कई मंदिर और धार्मिक स्थल हैं जिनकी अपनी ही एक कहानी होती है। हम आपको आज एक ऐसे ही मंदिर के बारे में बता रहे हैं जो तमिलनाडु के कांचीपुरम में स्थित है। यहां जो भगवान हैं वह 40 सालों में एक बार कुछ…

1 मईः आज ही के दिन अस्तित्व में आए थे महाराष्ट्र और गुजरात

maharashtra day,gujarat day

टीम चैतन्य भारत। महाराष्ट्र और गुजरात का स्थापना दिवस 1 मई को मनाया जाता है। भारत की आजादी समय समय दोनों राज्यों के ज्यादातर हिस्से मुंबई (तत्कालीन बंबई) राज्य के अंग थे। जब (बंबई) से महाराष्ट्र और गुजरात के गठन का प्रस्ताव आया तो तत्कालीन प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू ने बंबई को अलग केंद्र शासित प्रदेश बनाने की बात कही थी। उनका तर्क था कि अगर मुंबई को देश की आर्थिक राजधानी बने रहना है तो यह करना आवश्यक है। स्वतंत्रता के बाद करीब 600 रियासतों में बंटे भारत में राज्यों…