शनि जयंती: चौथी शताब्दी से रोम में हो रही शनि भगवान की पूजा, वहां कृषि के देवता माने गए हैं शनिदेव

चैतन्य भारत न्यूज सूर्य पुत्र शनि भगवान की आज जयंती है। शनि नौ ग्रहों में से एक हैं। भारत में कई शनि मंदिर है जहां भक्तों का तांता लगा रहता है लेकिन सबसे पुरानी सभ्यताओं में से एक रोम में भी शनि भगवान को वैसे ही पूजा जाता है। आज भी रोम में चौथी शताब्दी का एक शनि मंदिर है। यहां शनि भगवान को कृषि का देवता माना जाता है। शनि को माना जाता था रोमन देवता रोम के शनि मंदिर के मुख्य हिस्से में उस काल के 8 विशाल…

आज ही के दिन अस्तित्व में आए थे महाराष्ट्र और गुजरात, जानिए इनके गठन की कहानी

maharashtra day,gujarat day

चैतन्य भारत न्यूज  महाराष्ट्र और गुजरात का स्थापना दिवस 1 मई को मनाया जाता है। भारत की आजादी के समय दोनों राज्यों के ज्यादातर हिस्से मुंबई (तत्कालीन बंबई) राज्य के अंग थे। जब बंबई से महाराष्ट्र और गुजरात के गठन का प्रस्ताव आया तो तत्कालीन प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू ने बंबई को अलग केंद्र शासित प्रदेश बनाने की बात कही थी। उनका तर्क था कि अगर मुंबई को देश की आर्थिक राजधानी बने रहना है तो यह करना आवश्यक है। स्वतंत्रता के बाद करीब 600 रियासतों में बंटे भारत में राज्यों का…

जयंती विशेष: गर्भावस्था के दौरान तय किया था 787 किमी का सफर, 14वें बच्चे को जन्म देने के दौरान हो गई थी मुमताज महल की मौत

चैतन्य भारत न्यूज शाहजहां की बेगम मुमताज महल का जन्म 27 अप्रैल 1593 को आगरा में हुआ था। मुमताज महल का असली नाम अर्जुमंद बानो था। मुमताज महल की जयंती विशेष पर जानते हैं उनके बारे में कुछ खास बातें- शाहजहां और मुमताज की मुलाकात सबसे पहले मीना बाजार में हुई थी। बाजार में मुमताज कुछ सिल्क का सामान बेच रही थी। मुमताज की खूबसूरती शाहजहां के दिलो-दिमाग में इस कदर बस गई कि वो मुमताज का पीछा करने लगे। कुछ समय बाद शाहजहां को पता चला कि जिस लड़की…

हनुमान जयंती 2021 : कैसे हुआ था हनुमान जी का जन्म? यहां पढ़े उनकी जन्म कथा

bhagvan hanuman, hanuman ji, hanuman ji ki puja ka mahatav, hanuman ji ki puja vidhi,

चैतन्य भारत न्यूज हर वर्ष चैत्र मास की पूर्णिमा तिथि को पवन पुत्र भगवान श्री हनुमान का जन्मोत्सव पर्व मनाया जाता है। हनुमान जी का जन्म चैत्र पूर्णिमा को मंगलवार के दिन चित्रा नक्षत्र और मेष लग्न में हुआ था। उनके पिता वानर राज राजा केसरी थे जो सुमेरू पर्वत के राजा थे। उनकी माता का नाम अंजनी था। हनुमान को पवन पुत्र और बजरंगबली भी कहा जाता है। श्री हनुमान जी कलयुग में सबके सहायक, रक्षक माने जाते हैं।   हनुमान जन्म कथा एक पौराणिक कथा के मुताबिक, समुद्रमंथन…

जलियांवाला बाग हत्याकांड : 102 साल पहले जब डायर ने गोलियां चलवाकर हजारों जिंदगियों को कर दिया था खामोश

jalian wala bhag,jalian wala bhag hatyakand

टीम चैतन्य भारत भारत के इतिहास में 13 अप्रैल का दिन एक दुखद घटना के रूप में दर्ज है। 102 साल पहले यानी 13 अप्रैल 1919 को जनरल डायर के आदेश पर बंदूकधारियों ने बैसाखी का उत्सव मनाने जुटी भीड़ पर ताबड़तोड़ गोलीबारी कर दी थी। इस हत्याकांड में कई बेकसूर लोगों को जान चली गई थी। जालियांवाल बाग हत्याकांड के 100 साल पूरे होने पर ब्रिटेन की प्रधानमंत्री टेरेसा का भी बयान आया था। टेरेसा ने जलियांवाला बाग नरसंहार पर दुख जताया था और इसे इतिहास का शर्मनाक धब्बा…

हरिद्वार कुंभ मेला 2021: 850 साल पुराना है कुंभ मेले का इतिहास, समुद्र मंथन से जुड़ी है इसके पीछे की कहानी

चैतन्य भारत न्यूज 1 अप्रैल से हरिद्वार में कुंभ मेले का आयोजन शुरू हो गया है। कोरोना वायरस महामारी को देखते हुए इस बार कुंभ मेले की अवधि 28 दिनों तक सीमित रखने का निर्णय लिया गया है। महाशिवरात्रि पर हरिद्वार में लग रहे कुंभ का पहला स्नान होगा। इस दिन भारी संख्या में भक्त गंगामें डुबकी लगाएंगे। हालांकि कोरोना महामारी को देखते हुए बचाव की सभी गाइडलाइंस का पालन किया जाएगा। कुंभ मेले का इतिहास करीब 850 साल पुराना है। माना जाता है कि आदि शंकराचार्य ने इसकी शुरुआत…

महाशिवरात्रि 2021: इस अनोखे मंदिर में एक शिवलिंग में होते हैं 1008 शिवलिंग के दर्शन

shivling

चैतन्य भारत न्यूज बड़वानी. इस बार 21 फरवरी यानी शुक्रवार को महाशिवरात्रि का पर्व मनाया जाएगा। इस खास अवसर पर हम आपको आज भोलेनाथ के एक ऐसे मंदिर के बारे में बता रहे हैं जहां एक ही शिवलिंग पर छोटे-छोटे 1008 शिवलिंग बने हुए हैं। जी हां… देशभर से श्रद्धालु इस अनोखे शिवलिंग के दर्शन करने आते हैं। 1100 साल पुराना शिवलिंग भोलेनाथ का यह अनोखा व अतिप्राचीन शिवलिंग मध्यप्रदेश के बड़वानी जिले के निवाली के समीप ग्राम वझर में है। शिवलिंग की ऊंचाई करीब साढ़े तीन फीट है। कहा…

एक धर्मगुरु के कहने पर 900 से भी अधिक लोगों ने कर ली थी सामूहिक आत्महत्या, दिल दहला देगी कहानी

चैतन्य भारत न्यूज अंधविश्वास एक ऐसा जाल है जिसमे इंसान फंसता ही चला जाता है। आज हम आपको एक ऐसे दिल दहला देने वाले अंधविश्वास के एक ऐसे मामले के बारे में बता रहे हैं, जिसके कारण अमेरिका के पास स्थित गुयाना के जोंसटाउन में एक साथ 900 से भी अधिक लोगों ने आत्महत्या कर ली थी। इस घटना को अबतक की सबसे बड़ी आत्महत्या की घटनाओं में से एक माना जाता है। 18 नवंबर यानी आज ही के दिन साल 1978 को घटी इस घटना के बारे में जो…

अहंकारी रावण के ये हैं वो 5 योगदान, जिन्हें बनाया गया धर्मशास्त्र का हिस्सा

ravan

चैतन्य भारत न्यूज लंकापति रावण को सिर्फ उसके अहंकार और बुराइयों ने नष्ट कर दिया, वरना रावण जितना ज्ञानी और कोई नहीं था। रावण की बुराइयों के चलते उसे पूरी दुनिया नकारात्मक छवि से देखती है। लेकिन आपको बता दें कि रावण एक विद्वान और प्रकांड पंडित था और उसने धर्मशास्त्र को भी बहुत कुछ दिया हैं। आइए जानते हैं रावण के वो 5 योगदान के बारे में, जो धर्मशास्त्र का हिस्सा बने। शिव तांडव स्त्रोत लिखा था पौराणिक कथाओं के मुताबिक, एक बार तो रावण इतना ज्यादा अहंकारी बन…

बारिश ने बनाए और बिगाड़े कई साम्राज्य: अच्छा मानसून हुआ तो होगा मौर्य साम्राज्य का विस्तार और खराब मानसून में हुआ गुप्त वंश का पतन

चैतन्य भारत न्यूज वैज्ञानिक हर थोड़े दिन में कोई न कोई नई खोज करते ही रहते है। अब इन्होंने हिमाचल की रिवालसर झील की तलहटी के नमूनों की जांच से करीब 3200 सालों में मानसून के पैटर्न का पता लगाया है। इस खोज से यह सामने आया है कि जिन कालखंडो में मौसम गर्म रहा, उस दौरान अच्छी बारिश हुई। जबकि जिन कालखंडो में ठंडक रही तब मानसून कमजोर हुआ। वैज्ञानिकों ने अपनी स्टडी में 4 कालखंडों में मानसून की गणना की है। ये चार कालखंड रोमन वार्म पीरियड, मिडिवल…