प्रयागराज की धरती पर सांस्कृतिक विरासत को बयां करता है “पेंट माई सिटी” अभियान

वैसे तो प्रयागराज में आयोजित होने वाला कुंभ, देश-विदेश से लोगों को आकर्षित करता ही है लेकिन इस कुंभ को और खास बनाने के लिए शुरू किया गया एक अभियान,”पेंट माई सिटी”. जैसा कि नाम से ही जाहिर है इसके तहत शहर की दीवारों,सार्वजनिक स्थलों,इमारतो, गंगा घाटों समेत मेला क्षेत्र को अलग-अलग कहानियां बयां करते चित्रों से सजाया गया था.बड़े स्तर पर शुरू किए गए इस अभियान का मुख्य मकसद था कि जब देश-विदेश से लोग प्रयागराज की धरती में घूमने आए तो दीवारों पर उकेरी गई इन कहानियों को…

Read More

ऐतिहासिक “बड़ी कोठी” को मिली नयी पहचान

दारागंज एरिया में स्थित “बड़ी कोठी” को नयी पहचान मिल गयी है. इस पहचान में इसके पुराने स्वरूप को भी जिंदा रखने का प्रयास किया गया है ताकि ऐतिहासिक विरासत गायब न हो जाए. शनिवार को डिप्टी सीएम केशव मौर्या ने इसके नये स्वरूप का इनॉगरेशन किया. इसे अब हेरीटेज होटल बड़ी कोठी के नाम पर जाना जाएगा. आलीशान कमरे, नक्काशी, फाउंटेशन, तहखाने और तीन मंजिल पर बना गंगा के नजारे वाला स्वीमिंग पूल यहां स्टे करने को डिफरेंट फील कराएगा. बड़ी कोठी दारागंज में मां गंगा के तट पर…

Read More

प्रयागराज आए थे रामायण सीरियल में रावण का किरदार निभाने वाले अरविंद त्रिवेदी

अरविंद त्रिवेदी ने कही थी ये बातें -: अरविंद त्रिवेदी का नाम कौन नहीं जानता। करीब तीन दशक पूर्व टेलीविजन पर प्रसारित रामायण सीरियल ने उन्‍हें महान प्रसिद्धि दी थी। रामानंद सागर के इस टीवी सीरियल में अरविंद त्रिवेदी ने रावण का सशक्‍त अभिनय जीवंत किया था। तेज आवाज, हाव-भाव, चाल-ढाल और संवाद की अनूठी प्रसिद्धि ने उन्‍हें बड़ा स्‍टार बना दिया था। उस समय का बच्‍चा-बच्‍चा भी उनसे अनभिज्ञ नहीं था। स्‍टेज शो हो या फिर रामलीला सभी जगह रावण के किरदार को निभाने वाले कलाकार इसी अभिनेता जैसा…

Read More

बलवीर गिरि को मिली नरेंद्र गिरि की गद्दी

13 अखाड़ों के महंतों की मौजूदगी में पट्टाभिषेक अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष रहे नरेंद्र गिरि की वसीयत के अनुसार मंगलवार को बलवीर गिरि को उनकी गद्दी सौंप दी गई। सनातन धर्म के वैभव, शक्ति और समर्पण के केंद्र श्रीमठ बाघम्बरी गद्दी में 13 अखाड़ों के महात्माओं की मौजूदगी में श्रीनिरंजनी अखाड़ा के उपमहंत बलवीर गिरि का महंत के रूप में पट्टाभिषेक किया गया। बलवीर गिरि ने नरेंद्र गिरि की समाधि में माथा टेककर पूजन किया।  श्रीमहंत विचारानंद संस्कृत महाविद्यालय में सुबह 11 बजे से श्रद्धांजलि सभा की शुरुआत हुई। 13…

Read More

मुकुट पूजन के साथ होगी रामलीला की शुरुआत

एक और दो अक्तूबर को शहर की प्रमुख रामलीला कमेटियों की ओर से मुकुट पूजन किया जाएगा। इसी के साथ शहर में रामलीला की औपचारिक शुरुआत हो जाएगी। रामलीला का मंचन सात अक्तूबर से होगा। कोरोना गाइड लाइन के मुताबिक कमेटियों ने भगवान की झांकी निकालने और रामलीला के मंचन की तैयारी पूरी कर ली है। कथा के प्रसंग अनुसार कलाकारों का अभ्यास अंतिम दौर में है। पथरचट्टी रामलीला कमेटी के मीडिया प्रभारी लल्लू लाल गुप्त सौरभ ने बताया कि मुकुट पूजन दो अक्तूबर को शाम 7: 30 होगा। दारागंज…

Read More

कीचड़ में मिला दो लाख साल पुराना ऐसा ‘खजाना’, देखकर वैज्ञानिक भी रह गए हैरान

प्राचीन मानव से जुड़े अवशेष वैज्ञानिकों के लिए किसी खजाने से कम नहीं है. इसी कड़ी में वैज्ञानिकों को तिब्बत में एक चट्टान की सतह पर Immobile Art के सबसे पुराने नमूने मिले हैं. लाखों साल पुराने चट्टानों की सतह पर पड़े ये निशान बेहद अहम हैं. वैज्ञानिकों का मानना है कि इससे प्राचीन जीवन के कई रहस्य खुल सकते हैं. प्राचीन जीवन के कई रहस्य खुलेंगे लाखों साल पुराने चट्टानों की सतह पर पड़े ये निशान बेहद अहम हैं. वैज्ञानिकों का मानना है कि इससे प्राचीन जीवन के कई…

Read More

हिंदी दिवस विशेष :-

जिस हिन्दी को आज हम बोलते-सुनते-पढ़ते हैं, वो 3400 साल में बनी है। 1500 ईसा पूर्व में हिन्दी की मां कही जाने वाली संस्कृत की शुरुआत हुई थी। 1900 ईसवी में हिन्दी खड़ी बोली में लिखना-पढ़ना शुरू किया गया। हिन्दी दिवस के मौके पर हम इसी हिन्दी भाषा का पूरा इतिहास लेकर आए हैं। इसमें पैदा होने से लेकर बड़े होने तक की पूरी कहानी है। आज जिस हिन्दी को हम लिखते-बोलते हैं वो 120 साल की है, लेकिन इसकी जड़ें 3520 साल पुरानी हैं हिंदी बोलने वाले 90 फीसदी…

Read More

शनि जयंती: चौथी शताब्दी से रोम में हो रही शनि भगवान की पूजा, वहां कृषि के देवता माने गए हैं शनिदेव

चैतन्य भारत न्यूज सूर्य पुत्र शनि भगवान की आज जयंती है। शनि नौ ग्रहों में से एक हैं। भारत में कई शनि मंदिर है जहां भक्तों का तांता लगा रहता है लेकिन सबसे पुरानी सभ्यताओं में से एक रोम में भी शनि भगवान को वैसे ही पूजा जाता है। आज भी रोम में चौथी शताब्दी का एक शनि मंदिर है। यहां शनि भगवान को कृषि का देवता माना जाता है। शनि को माना जाता था रोमन देवता रोम के शनि मंदिर के मुख्य हिस्से में उस काल के 8 विशाल…

Read More

आज ही के दिन अस्तित्व में आए थे महाराष्ट्र और गुजरात, जानिए इनके गठन की कहानी

maharashtra day,gujarat day

चैतन्य भारत न्यूज  महाराष्ट्र और गुजरात का स्थापना दिवस 1 मई को मनाया जाता है। भारत की आजादी के समय दोनों राज्यों के ज्यादातर हिस्से मुंबई (तत्कालीन बंबई) राज्य के अंग थे। जब बंबई से महाराष्ट्र और गुजरात के गठन का प्रस्ताव आया तो तत्कालीन प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू ने बंबई को अलग केंद्र शासित प्रदेश बनाने की बात कही थी। उनका तर्क था कि अगर मुंबई को देश की आर्थिक राजधानी बने रहना है तो यह करना आवश्यक है। स्वतंत्रता के बाद करीब 600 रियासतों में बंटे भारत में राज्यों का…

Read More

जयंती विशेष: गर्भावस्था के दौरान तय किया था 787 किमी का सफर, 14वें बच्चे को जन्म देने के दौरान हो गई थी मुमताज महल की मौत

चैतन्य भारत न्यूज शाहजहां की बेगम मुमताज महल का जन्म 27 अप्रैल 1593 को आगरा में हुआ था। मुमताज महल का असली नाम अर्जुमंद बानो था। मुमताज महल की जयंती विशेष पर जानते हैं उनके बारे में कुछ खास बातें- शाहजहां और मुमताज की मुलाकात सबसे पहले मीना बाजार में हुई थी। बाजार में मुमताज कुछ सिल्क का सामान बेच रही थी। मुमताज की खूबसूरती शाहजहां के दिलो-दिमाग में इस कदर बस गई कि वो मुमताज का पीछा करने लगे। कुछ समय बाद शाहजहां को पता चला कि जिस लड़की…

Read More