CBSE ने परीक्षा से पहले बदले कुछ नियम, 75% से कम अटेंडेंस पर नहीं दे सकेंगे परीक्षा

cbse

चैतन्य भारत न्यूज

नई दिल्ली. CBSE ने परीक्षा से पहले नए नियम जारी किए हैं। सीबीएसई बोर्ड के नियमों के मुताबिक, यदि 10वीं और 12वीं कक्षा में किसी छात्र की अटेंडेंस 75 प्रतिशत से कम होगी तो वह बोर्ड परीक्षा में भाग नहीं ले सकेगा। इतना ही नहीं बल्कि परीक्षार्थियों को अपने स्कूल की यूनिफॉर्म में ही परीक्षा देने आना है।



सीबीएसई बोर्ड ने शैक्षणिक सत्र 2019-20 शुरू होने के साथ ही नए नियमों के तहत स्कूलों, छात्रों और अभिभावकों को इस संबंध में जानकारी दे दी थी। जानकारी के मुताबिक, सीबीएसई बोर्ड ने सभी मान्यता प्राप्त स्कूलों से बोर्ड परीक्षाओं के छात्रों की अटेंडेंस शीट मांगी है। स्कूल प्रबंधन को जनवरी तक अपने सभी बोर्ड परीक्षा में शामिल होने वाले छात्रों की अटेंडेंस रिपोर्ट बनाकर सीबीएसई बोर्ड को भेजनी अनिवार्य है। यदि किसी छात्र की अटेंडेंस कम है तो उसे इसका कारण भी लिखित में भेजना होगा।

डिजिटल घड़ी पहनने पर रोक

नियमों के मुताबिक, यदि छात्र प्रवेश पत्र अपने साथ लाए हैं लेकिन अगर वो स्कूल यूनिफॉर्म पहन कर नहीं आए हैं तो भी उन्हें परीक्षा नहीं देने दी जाएगी। इसके अलावा परीक्षार्थियों को स्मार्ट और डिजिटल घड़ी पहनने पर भी रोक लगाई गई है। वे चाहें तो एनलॉग घड़ी पहन सकते हैं।

सीबीएसई ने सुझाया पेपर हल करने का फॉर्मूला

बता दें सीबीएसई बोर्ड की 10वीं और 12वीं कक्षा की परीक्षाएं 15 फरवरी से शुरू हो रही हैं। सीबीएसई बोर्ड ने बीते कुछ वर्षों में टॉप करने वाले छात्रों की उत्तर पुस्तिकाओं का अध्ययन करके सवालों के जवाब लिखने के फॉर्मेट तैयार किए हैं। यह फॉर्मेट सभी छात्रों को भेज दिए गए हैं।

ये भी पढ़े… 

10वीं-12वीं के एग्‍जाम पैटर्न में CBSE करेगा ये बड़ा बदलाव, जानिए डिटेल

CBSE में नौकरी का शानदार मौका, 357 अलग-अलग पदों पर निकाली भर्ती, जल्द करें आवेदन

2020 बोर्ड परीक्षा में ये बड़े बदलाव करने जा रहा है CBSE, पेपर पैटर्न भी बदला

Related posts