1 दिसंबर तक मुफ्त मिलेगा फास्टैग, जानिए क्या है फास्टैग और जनता को इससे क्या होगा फायदा

fastag

चैतन्य भारत न्यूज

नई दिल्ली. डिजिटल इंडिया बनाने को लेकर केंद्र सरकार ने एक अन्य अहम कदम उठाया है। अब से देशभर के टोल प्लाजा कैशलेस होने वाले हैं। 1 दिसंबर के बाद बिना फास्टैग के कोई भी चालक टोल प्लाजा पार नहीं कर पाएगा। इसलिए अब से फास्टैग खरीदना बेहद जरूरी हो गया है। इसके लिए टोल प्लाजा पर फास्टैग कार्ड बनने की प्रक्रिया भी गति पकड़ती जा रही है। बता दें सरकार ने 1 दिसंबर तक फास्टैग का वितरण निशुल्क कर दिया है।


बैंक से खरीदने पर देना होगा शुल्क

फास्टैग एक ऐसी कैश-लेस प्रणाली है, जिससे टोल प्लाजा पर वाहनों की कतार लगना बंद हो जाएगी। सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने बताया कि, मुफ्त में फास्टैग सिर्फ NHAI के प्वाइंट ऑफ सेल (POS) पर ही उपलब्ध होगा। जबकि अगर कोई ग्राहक इसे बैंक से खरीदता हैं तो उन्हें पूरा शुल्क चुकाना होगा। गडकरी के मुताबिक, 1 दिसंबर के बाद हर वाहन के लिए टोल प्लाजा पर फास्टैग अनिवार्य होगा। जिन भी वाहनों पर यह टैग नहीं होगा, उन्हें दोगुना टोल देना पड़ेगा। जानकारी के मुताबिक, अब तक इस टैग के लिए 150 रुपए सिक्योरिटी के तौर पर जमा करने होते थे। 1 दिसंबर तक मुफ्त में वितरित किए जाने वाले टैग की राशि का भुगतान एनएचएआई करेगा।

क्या है फास्टैग

फास्टैग एक ऐसा उपकरण होता है जो वाहन के सामने वाले कांच पर लगाया जाता है। इसमें रेडियो फ्रिकवेंसी आईडेंटिफिकेशन लगा होता है। जैसे ही आपकी गाड़ी टोल प्लाजा के पास आ जाती है, तो टोल प्लाजा पर लगा सेंसर आपके वाहन के विंड स्क्रीन में लगे फास्टैग के संपर्क में आते ही, आपके फास्टैग अकाउंट से उस टोल प्लाजा पर लगने वाला शुल्क काट देता है और आप बिना वहां रुके अपना प्लाजा टैक्स का भुगतान कर देते हैं।

फास्टैग कितना उपयोगी

टोल प्लाजाओं पर टोल कलेक्शन सिस्टम से होने वाली परेशानियों का हल निकालने के लिए ‘राष्ट्रीय हाईवे अथॉरिटी ऑफ इंडिया’ ने भारत में ‘इलेक्ट्रॉनिक टोल कलेक्शन’ (ETC) सिस्टम शुरू किया गया है। इलेक्ट्रॉनिक टोल कलेक्शन सिस्टम या फास्टैग स्कीम भारत में सबसे पहले साल 2014 में शुरू की गई थी। अब इसे पूरे देश के टोल प्लाजा के पर लागू किया जा रहा है। फास्टैग सिस्टम की मदद से आपको टोल प्लाजा में टोल टैक्स देने के दौरान होने वाली परेशानियों से निजात मिल सकेगा। फास्टैग के जरिए आप टोल प्लाजा में बिना रुके अपना टोल प्लाजा टैक्स दे सकेंगे। इसके लिए आपको बस अपने वाहन पर फास्टैग लगाना होगा। आपके प्रीपेड खाते के सक्रिय होते ही फास्टैग अपना काम शुरू कर देगा। जब आपके फास्टैग अकाउंट में राशि खत्म हो जाएगी, तो आपको उसे फिर से रिचार्ज करवाना पड़ेगा। आप क्रेडिट कार्ड, डेबिट कार्ड, आरटीजीएस और नेट बैंकिंग के जरिए अपने फास्टैग अकाउंट को रिचार्ज कर सकते हैं। इसके खाते में कम से कम 100 रुपए और ज्यादा से ज्यादा 100000 रुपए तक का रिचार्ज कराया जा सकता है।

फास्टैग लेने के लिए आवश्यक दस्तावेज

  • वाहन के पंजीकरण प्रमाण पत्र( RC)
  • वाहन मालिक का पासपोर्ट साइज के फोटो
  • वाहन मालिक के केवाईसी दस्तावेज और एड्रेस प्रूफ

 

Related posts