चंद्रयान-2 के ऑर्बिटर ने भेजी चांद की तस्वीर, इसरो ने बताया- चांद की मिट्टी में मौजूद कणों के बारे में पता लगा

moon

चैतन्य भारत न्यूज

बेंगलुरु. शुक्रवार को इसरो ने चंद्रयान-2 के ऑर्बिटर के हाई रिजोल्यूशन कैमरे से ली गईं तस्वीरें जारी की हैं। इन तस्वीरों में आपको चांद की अलग ही झलक देखने को मिलेगी। ये चांद की सतह की तस्वीर है, जिसमें चंद्रमा पर बड़े और छोटे गड्ढे नजर आ रहे हैं।



इसरो ने कहा कि, ‘आर्बिटर में मौजूद आठ पेलोड ने चांद की सतह पर मौजूद तत्वों को लेकर कई सूचनाएं भेजी हैं। चांद की सतह पर मौजूद आवेशित कणों का आर्बिटर पता लगा रहा है। ऑर्बिटर के पेलोड क्लास ने अपनी जांच में चांद की मिट्टी में मौजूद कणों के बारे में भी पता लगाया है। यह सब तब संभव हुआ जब सूरज की तेज रोशनी की वजह से चांद की सतह चमकने लगी।

बता दें कुछ दिन पहले ही ऑर्बिटर से खींची गईं तस्वीरों के जरिए इसरो ने लापता विक्रम लैंडर की लोकेशन मिलने की भी जानकारी दी थी। जानकारी के मुताबिक, ऑर्बिटर करीब 7.5 साल तक चांद की कक्षा की परिक्रमा लगाता रहेगा। विक्रम लैंडर 7 सितंबर को चांद की सतह पर सॉफ्ट लैंडिग करने वाला था जो नहीं हो पाई थी और इसके बाद विक्रम से इसरो का संपर्क टूट गया। फिर नासा और इसरो के वैज्ञानिकों ने विक्रम की हार्ड लैंडिंग की पुष्टि भी की।

चांद से 100 किमी दूर ऑर्बिटर

22 जुलाई को लॉन्च हुआ चंद्रयान-2 में लैंडर और रोवर को चांद पर उतरना था और ऑर्बिटर के पास चांद की परिक्रमा कर उसकी जानकारी जुटाने की जिम्मेदारी थी। विक्रम लैंडर का तो अब तक कुछ पता नहीं लग सका है लेकिन ऑर्बिटर इस समय चांद की सतह से करीब 100 किमी के ऊपर से परिक्रमा कर रहा है।

ये भी पढ़े…

ISRO चीफ ने किया खुलासा- कैसे रहा चंद्रयान-2 98 फीसदी सफल

चंद्रयान-2 : इसरो ने देशवासियों का किया शुक्रियाअदा, लैंडर विक्रम से संपर्क की उम्मीदें खत्म!

चंद्रयान-2 ने पहली बार भेजी तस्वीरें, दिखा अंतरिक्ष से धरती का बेहद खूबसूरत नजारा 

Related posts