सादगी से भरपूर है छठ महापर्व, पूजा से पहले जुटा लें ये सामग्री

chhath puja,chhath puja 2019,chhath puja ka mahatava,chhath puja vrat

चैतन्य भारत न्यूज

कार्तिक मास की शुक्ल पक्ष की षष्ठी तिथि को छठ त्योहार मनाया जाता है। इस साल 31 अक्टूबर को नहाय खाय से छठ पूजा शुरू हो चुकी है जो 3 नवंबर तक  चलेगी। चार दिन तक चलने वाले इस पर्व को सादगी का त्योहार माना जाता है।



दरअसल छठ का त्योहार कर्मकांडों और दिखावों से दूर बहुत ही सरलता से मनाया जाता है और यही बात इस महापर्व को बाकी त्योहारों से अलग बनाती है। छठ पूजा को प्रकृति का त्योहार भी कहा जाता है। इसमें पूजा-पाठ से लेकर प्रसाद तक में प्रकृति की चीजें उपयोग में लाई जाती हैं। पूजा में मौसम की फसलों को ही शामिल किया जाता है।

chhath puja,chhath puja 2019,chhath puja ka mahatava,chhath puja vrat

पूजा में नई फसल के तौर पर प्रसाद में गन्ना चढ़ाया जाता है। इसके अलावा गुड़ और आटे को मिलाकर ठेकुआ बनाया जाता है जो इस पूजा की विशेष प्रसाद रहती है। इस पर्व में महिलाएं नदी, ताल या समुद्र के पास पानी में खड़े हो कर सूर्य की पूजा करती हैं। पूजा के घाट पर हर कोई समान भाव से आकर पूजा करता है। इस पूजा के दौरान किसी से भेदभाव नहीं किया जाता है। 4 दिनों का ये पर्व साधना और तप के लिए जाना जाता है।

chhath puja,chhath puja 2019,chhath puja ka mahatava,chhath puja vrat

आइए जानते हैं इस व्रत की पूजा सामग्री-

छठ पूजा का प्रसाद रखने के लिए बांस की दो बड़ी-बड़ी टोकरियां, दूध, जल, 5 गन्ने, जिसमें पत्ते लगे हों, शकरकंदी, सुथनी, पान, सुपारी, हल्दी, मूली, अदरक का हरा पौधा, नींबू, शरीफा, केला, नाशपाती, पानी वाला नारियल, मिठाई, चावल, सिंदूर, दीपक, शहद और धूप, गुड़, गेहूं, चावल का आटा, ठेकुआ आदि शामिल होना चाहिए।

chhath puja,chhath puja 2019,chhath puja ka mahatava,chhath puja vrat

ये भी पढ़े…

लोक आस्था का महापर्व छठ पूजा कल से शुरू, जानें नहाय खाय से लेकर सूर्योदय के अर्घ्य के बारे में सबकुछ

Related posts