छत्तीसगढ़: नक्सली हमले में शहीद हुए 17 जवान, 14 घायल, मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने दी श्रद्धांजलि

sukma, chhattisgarh, chhattisgarh-chief minister bhupesh baghel

चैतन्य भारत न्यूज

रायपुर. छत्तीसगढ़ के नक्सल प्रभावित सुकमा जिले में नक्सलियों से मुठभेड़ में सुरक्षा बल के 17 जवान शहीद हो गए हैं। उनके शव को बरामद कर लिया गया है। राज्य सरकार ने सभी जवानों को शहीद घोषित कर दिया है। जानकारी के मुताबिक, शनिवार दोपहर में सुकमा के चिंतागुफा थाना क्षेत्र के कसालपाड़ और मिनपा के बीच नक्सलियों ने जवानों पर हमला कर दिया था। इस हमले के बाद 17 जवान लापता थे, जबकि 15 जवान घायल हो गए थे। बस्तर आईजी पी सुंदराज ने जवानों के शहीद होने की पुष्टि की है। इसमें 12 एसटीएफ और पांच डीआरजी के जवान बताए जा रहे हैं। घायलों को इलाज के लिए रायपुर एयरलिफ्ट किया गया है। दो घायल जवानों की हालत गंभीर बताई जा रही है।



sukma, chhattisgarh, chhattisgarh-chief minister bhupesh baghel

शहीद हुए 17 जवानों को मुख्यमंत्री भूपेश बघेल, गृहमंत्री ताम्रध्वज साहू, पीसीसी चीफ मोहन मरकाम समेत पुलिस अधिकारियों ने श्रद्धांजलि दी। इस दौरान मुख्यमंत्री बघेल की आंखें नम हो गईं। उन्होंने कहा कि, ‘हमें बड़ा नुकसान पहुंचा है, लेकिन नक्सलियों को जड़ से उखाड़ कर रहेंगे। हमारी रणनीति में कोई कमी नहीं, कोई इंटेलीजेंस में चूक नहीं हुई है।’ वहीं बीजेपी नेता शिवराज सिंह चौहान ने भी शहीदों को श्रद्धांजलि दी है। उन्होंने ट्वीट में लिखा कि, ‘सुकमा में नक्सली हमले में कई वीर सपूतों के शहीद होने के समाचार से अत्यंत दुःखी हूं। ईश्वर से दिवंगत आत्मा की शांति और परिजनों को यह वज्रपात सहन करने की शक्ति देने की प्रार्थना करता हूं! विनम्र श्रद्धांजलि! देश अपने सपूतों के बलिदान को नहीं भूलेगा, इन दरिंदों को सबक सिखाएगा।’

sukma, chhattisgarh, chhattisgarh-chief minister bhupesh baghel

सर्चिंग अभियान पर निकले थे 550 जवान

खबरों के मुताबिक, सुकमा के मिनपा में शुक्रवार को सीआरपीएफ, एसटीएफ और डीआरजी के करीब 550 जवान सर्चिंग के लिए निकले थे। जवानों को नक्सलियों के सक्रिय टॉप लीडर हिड़मा, नागेश और अन्य के कैंप लगाने का इनपुट मिला था। जवान शनिवार को सर्चिंग से लौट रहे थे, इसी दौरान नक्सलियों के बीच फंस गए। जवानों और नक्सलियों के बीच करीब 5 घंटे तक मुठभेड़ चलती रही। इसके बाद नक्सली वहां से भाग निकले। मुठभेड़ में 17 जवान लापता थे। रविवार सुबह फोर्स ने लापता जवानों की बॉडी रिकवर की।

ये भी पढ़े…

शहीद दिवस: 30 जनवरी को क्यों मनाया जाता है यह दिन? जानें वजह

आजाद शहीद दिवस: 1931 में मातृभूमि के लिए आजाद ने दी थी अपने प्राणों की आहुति, अकेले ही अंग्रेजों से भिड़े थे

हिमस्खलन की चपेट में आने से शहीद पिता को 3 माह की बेटी ने दी मुखाग्नि, मां और बहन ने दिया अर्थी को कंधा

Related posts