किसान की बेबसी: गरीबी में एक बैल की हुई मौत और दूसरा हुआ बीमार तो किसान ने बेटों को हल से लगाकर जोता खेत

चैतन्य भारत न्यूज

छिंदवाड़ा. सोशल मीडिया पर एक किसान की बेबसी की तस्वीरें सामने आई हैं। गरीबी में एक बैल की मौत और दूसरे के बीमार पड़ने पर मजबूरी में इस किसान ने खेत में फसल उगाने के लिए अपने दो बेटों से ही बैल की जगह हल जुतवाया।

यह तस्वीरें मध्य प्रदेश के छिंदवाड़ा से सामने आई हैं। यहां के सांवले बाड़ी में रहने वाले किसान जयदेव दास के खेत में भिंड़ी की फसल लगाने की पूरी तैयारी की जा चुकी थी। इस दौरान एक बैल की मौत हो गई और दूसरा कुछ समय बाद बीमार हो गया। ऐसे में किसान पिता ने हल की मुठ्ठी पकड़ी और बेटे बैल बनकर खेत में चल पड़े। किसान के बेटों ने बैल की जगह खुद लग कर 2.15 एकड़ खेत जोत डाला।

किसान का कहना है कि, लॉकडाउन की वजह से उनकी सब्जियों की फसल खराब हो गई जिससे उन्हें बहुत नुकसान हुआ है। ऐसे में गरीबी में बैल के बीमार पड़ने के बाद उनके पास इतने पैसे नहीं हैं कि वह उसका इलाज करा सकें। वहीं किसान के बेटों का कहना है कि, हमारी माली हालत खराब है और फसल भी बर्बाद हो गई है। बाजार में सब्जी बिक नहीं रही है जिसके चलते उन्हें काफी नुकसान हुआ है। इसलिए अब खुद ही हल में बैल बनकर खेतों को जोत रहे हैं ताकि कुछ फसल उगा सकें।

बता दें कि किसान जयदेव दास के दो बेटे हैं। एक का नाम राजेश और दूसरे का नाम देव है। दोनों ही बेटे मजदूरी करते है और पिता के साथ खेत में काम भी करते हैं। किसान जयदेव के पास दो एकड़ जमीन है जिसमें सब्जियां उगाकर वह अपने परिवार की गुजर बसर कर रहा है। उन्होंने ना तो कभी कोई कर्जा लिया और ना ही कभी प्रशासन से मदद मांगी। इसके कारण स्थानीय स्तर पर अधिकारियों को इसकी कोई जानकारी नहीं मिल पाई। यह मामला सामने आने के बाद नगर निगम, राजस्व और अन्य विभाग का अमला किसान के खेत पर पहुंचा और इस संबंध में जानकारी ली।

Related posts