जानिए कब और कैसे हुई 14 नवंबर को ‘बाल दिवस’ मनाने की शुरुआत

childrens day 2019,childrens day history,childrens day,bal diwas

चैतन्य भारत न्यूज

14 नवंबर को महान भारतीय स्वतंत्रता सेनानी और हमारे भारत के पहले प्रधानमंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरू की जयंती है। उनकी जयंती को पूरे देश में बाल दिवस के रूप में मनाया जाता है। इस दिन बच्चों के अधिकार, देखभाल और शिक्षा के बारे में लोगों को जागरुक किया जाता है। पंडित नेहरू ने भारत की आजादी के बाद बच्चों की शिक्षा, प्रगति और कल्याण के लिए बहुत काम किया। उन्होंने विभिन्न शैक्षिक संस्थानों जैसे भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान, अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान और भारतीय प्रबंधन संस्थान की स्थापना की थी।



childrens day 2019,childrens day history,childrens day,bal diwas

बाल दिवस मनाने की शुरुआत

ऐसा नहीं है कि सिर्फ भारत में ही बाल दिवस मनाया जाता है। बाल दिवस दुनिया भर में अलग-अलग तारीखों पर मनाया जाता है। लेकिन भारत में हर साल 14 नवंबर को बाल दिवस मनाया जाता है। दरअसल 27 मई 1964 को पंडित जवाहर लाल नेहरु के निधन के बाद बच्चों के प्रति उनके प्यार को देखते हुए सर्वसम्मति से यह फैसला हुआ कि अब से हर साल 14 नवंबर को चाचा नेहरू के जन्मदिवस पर बाल दिवस मनाया जाएगा। इससे पहले, अन्य देशों की तरह, 20 नवंबर को बाल दिवस मनाया जाता था, जो कि संयुक्त राष्ट्र द्वारा घोषित सार्वभौमिक बाल दिवस है।

childrens day 2019,childrens day history,childrens day,bal diwas

बाल दिवस का इतिहास

बाल दिवस साल 1925 से मनाया जाने लगा था, लेकिन यूएन ने 20 नवंबर 1954 को बाल दिवस मनाने की घोषणा की थी। विभिन्न देशों में अलग-अलग तारीखों पर बाल दिवस मनाया जाता है। भारत में बाल दिवस 1964 में प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू के निधन के बाद से मनाया जाने लगा। इस दिन स्कूलों में रंगारंग कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं, साथ ही बच्चे विभिन्न प्रतियोगिताओं में भाग लेते हैं।

childrens day 2019,childrens day history,childrens day,bal diwas

Related posts