कहां हैं अलीबाबा के मालिक जैक मा? चीन के सरकारी अखबार ने बताया

चैतन्य भारत न्यूज

ई-कॉमर्स कंपनी अलीबाबा और एंट ग्रुप के मालिक जैक मा पिछले दो महीने से लापता हैं। चीन की नीतियों की आलोचना करने के बाद से ही राष्ट्रपति शी जिनपिंग उनसे खासे नाराज़ बताए जा रहे हैं। वह करीब दो महीने से सार्वजनिक रूप से कहीं नजर नहीं आए हैं। चीन के सरकारी अखबार पीपुल्स डेली ने जैक मा की मौजूदगी को लेकर बड़ा संकेत दिया है।

चीनी मीडिया में ऐसी खबरें आयी हैं कि जैक मा सरकारी एजेंसियों की ‘निगरानी’ में हैं। जैक मा देश छोड़कर न ले जाएं इसलिए उन्हें किसी अज्ञात जगह पर सरकारी निगरानी में रखा गया है। रिपोर्ट के अनुसार, चीन की कम्युनिस्ट पार्टी के सदस्य जैक मा को सरकार ने सलाह दी है कि वह देश को नहीं छोड़ें। ऐसे अनुमान लगाए जा रहे हैं कि मा की इस दुर्दशा के पीछे चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग के साथ उनका गहराया विवाद है।


बता दें जैक मा चीन में अक्सर सार्वजनिक कार्यक्रमों में बतौर वक्ता मौजूद रहते हैं और अपने मोटिवेशनल भाषणों के लिए भी युवाओं में काफी लोकप्रिय हैं। उन्होंने पिछले साल अक्टूबर में शंघाई में एक कार्यक्रम के दौरान चीन के ब्याजखोर वित्तीय नियामकों और सरकारी बैंकों की तीखी आलोचना की थी। जैक मा ने सरकार से आह्वान किया था कि सिस्टम में बदलाव किया जाना चाहिए ताकि बिजनेस में नई चीजें शुरू करने के प्रयासों को दबाने नहीं जाए। उन्होंने वैश्विक बैंकिंग नियमों को ‘बुजुर्गों लोगों का क्लब’ करार दिया था।

फाइनेंशियल टाइम्स की रिपोर्ट के मुताबिक, जैक मा करीब दो महीने से किसी सार्वजनिक कार्यक्रम में नहीं देखे गए हैं। खुद के बनाए उनके टीवी शो ‘अफ्रीका के बिजनेस हीरो’ में भी जैक मा की जगह पर किसी और भेज दिया गया है। हालांकि, अलीबाबा कंपनी के एक प्रवक्ता ने कहा कि शेड्यूल कंफ्लिक्ट की वजह से जैक मा टीवी शो में शामिल नहीं हुए।

कौन हैं जैक मा?

जैक मा अरबपति कारोबारी हैं और दुनिया के 100 शीर्ष धनी लोगों में से हैं। वे चीन की अलीबाबा ग्रुप के फाउंडर हैं। गौरतलब है कि चीन में बड़ी हस्तियों की गिरफ्तारी के बारे में किसी तरह की जानकारी सार्वजनिक करने से सरकारें बचती रही हैं, इसलिए ऐसा लगता है कि ‘निगरानी’ के तहत रखने का मतलब जैक मा के जेल जाने से ही है।

चीनी राष्ट्रपति की आलोचना करना अलीबाबा कंपनी के मालिक जैक मा को पड़ा भारी, दो माह से हैं  लापता 

Related posts