रेत के बवंडर से घिरा चीन, पीला हुआ वातावरण, 341 लोग लापता, 400 उड़ानें रद्द,

चैतन्य भारत न्यूज

बीजिंग. चीन की राजधानी में पिछले 10 सालों का सबसे खतरनाक सैंडस्टॉर्म यानी भीषण रेतीला तूफान आया है। इस तूफान के कारण सोमवार को बीजिंग पूरी तरह से धूल से पीली हो गई। ऐसे में अंधेरा हो गया। सड़कों पर लोग हेडलाइटें जलाकर कार चला रहे थे। बीजिंग में वायु गुणवत्ता स्तर (Air Quality Index) 1000 पार कर गया। डॉक्टरों और वैज्ञानिकों ने इसे सबसे ज्यादा घातक बताया है। 400 से ज्यादा उड़ानें रद्द की गई हैं। ये धूल भरी आंधी मंगोलिया के पठारों से उड़ी धूल की वजह से आई है।

चीन की मीडिया के मुताबिक मंगोलिया और आसपास के इलाकों में धूल भरी आंधी आने के बाद से 341 लोग लापता है। चीन ने निंगशिया नाम के शहर के लोगों ने बताया कि वो रात में ही सो नहीं पाए। सांस ने ले पाने की वजह से जग गए थे। बीजिंग के चारों तरफ ग्रेट ग्रीन वॉल्स नाम का अभियान चला रखा है। शहर के चारों तरफ धूल पकड़ने वाले पेड़-पौधे लगाए जा रहे हैं। इसके बावजूद बीजिंग हर साल मार्च और अप्रैल में ऐसी धूल भरी आंधियों से परेशान होता है।


बता दें गोबी मरुस्थल काफी विशाल और बंजर है जो पश्चिमोत्तर चीन से लेकर दक्षिणी मंगोलिया तक पसरा हुआ है। चीन के मौसम विभाग ने यलो अलर्ट जारी किया है और बताया है कि यह धूलभरी आंधी इनर मंगोलिया से लेकर चीन के गांसू, शांक्सी और हेबेई तक फैले हैं जो बीजिंग के चारों स्थित है। धूलभरी आंधी की वजह से बीजिंग के हवा की गुणवत्ता पाताल में पहुंच गई है।

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के मुताबिक, प्रतिदिन पीएम 10 का स्तर 50 माइक्रोग्राम से ज्यादा नहीं होना चाहिए। लेकिन यहां इंडेक्स सोमवार सुबह अधिकतम स्तर यानी 1000 तक पहुंच गया है। पीएम 10 का स्तर कई जिलों में बहुत खतरनाक तरीके से बढ़ गया है। वास्तव में पीएम 2।5, फेफड़ों को नुकसान पहुंचाने वाले कणों का स्तर भी 300 माइक्रोग्राम के ऊपर पहुंच गया है। चीन में यह मानक 35 माइक्रोग्राम है।

Related posts