इन चीनी स्मार्टफोन में इंस्टॉल आ रहे हैं मैलवेयर, मिनटों में चुरा रहे यूजर्स का पैसा

चैतन्य भारत न्यूज

चीन में निर्मित स्मार्टफोन सस्ते होते हैं जिसके कारण कई चाइनीज मोबाइल कंपनियां बाजार में बेहद कम समय में अपनी जगह बना लेती हैं। सस्ते चाइनीज फोन में ट्र्रांजन होल्डिंग का बड़ा नाम है जो कि टेक्नो और इनफिनिक्स स्मार्टफोन की ब्रांडिंग करती है। बता दें भारत में Tecno और Infinix के स्मार्टफोन की बिक्री अच्छी है। कंपनी के अधिकतर फोन एंट्री लेवल या बजट में होते हैं लेकिन अब कंपनी एक विवाद में आ गई है। ट्रांजन होल्डिंग भारत और अफ्रीका में काफी लोकप्रिय है।

बजफीड न्यूज की एक रिपोर्ट में यह दावा किया गया है कि टेक्नो के फोन में पहले से ही कई मैलवेयर इंस्टॉल आ रहे हैं। ये मैलवेयर यूजर्स के फोन से आसानी से पैसे चुरा लेते हैं। खास बात यह है कि ये मैलवेयर एप्स यूजर्स की इजाजत के बिना ही पेड सर्विस सब्सक्राइब कर रहे हैं। 41 साल के एक अफ्रीकी शख्स के पास Tecno W2 स्मार्टफोन है और इसी फोन में मैलवेयर मिला है।

बिना इजाजत पेड सर्विस हुई शुरू

इस फोन में लगातार पॉपअप विज्ञापन दिखाई देते हैं, यहां तक कि फोन पर बात करते समय और चैटिंग के दौरान भी पॉपअप एड आता है। फ़ोन का इस्तेमाल कर रहे एक यूजर ने दावा किया है उसके फोन में कई पेड सर्विसेज शुरू हो गई हैं और इसके लिए उसके खाते से पैसे कटे हैं। शख्स द्वारा किए गए इस दावे के बाद बजफीड और सिक्योर-डी नाम की  मोबाइल सिक्योरिटी कंपनी ने मामले की जांच की है जिसमें पता चला है कि टेक्नो के फोन में xHelperand Triada मैलवेयर प्री-इंस्टॉल था जो कि डाटा खत्म कर रहा था और पैसे भी चुरा रहा था।

सिक्योर-डी ने यह भी कहा कि उसके नेटवर्क ने इस मैलवेयर के जरिए होने वाले 8,44,000 ट्रांजेक्शन को फेल किया है। ये इन ट्रांजेक्शन के लिए फोन में मौजूद मैलवेयर ने मार्च 2019 से दिसंबर 2019 के बीच कोशिश किया है। वहीं ट्रांजन होल्डिंग ने इस मामले पर कहा है कि इस मैलवेयर के जरिए हुए ट्रांजेक्शन से उसे कोई फायदा नहीं हुआ है। कंपनी ने यह भी बताने से इनकार कर दिया है कि इस मैलवेयर के कारण कितने फोन प्रभावित हुए हैं।

Related posts