बिहार चुनाव: चिराग पासवान ने जारी किया लोजपा का घोषणा पत्र, मुख्यमंत्री नीतीश को बताया जातीयता बढ़ाने वाला

चैतन्य भारत न्यूज

बिहार विधानसभा चुनाव के लिए बुधवार को लोक जनशक्ति पार्टी के नेता चिराग पासवान ने अपना घोषणा पत्र जारी किया। चिराग ने अपने विजन डॉक्यूमेंट के जरिए कई बड़े वादे किए। बता दें बिहार में पहले चरण के लिए 28 अक्टूबर को चुनाव होने हैं।


चिराग पासवान ने अपने विजन डॉक्यूमेंट को बिहार फर्स्ट और बिहारी फर्स्ट का नारा दिया है। चिराग पासवान ने कहा कि, ‘हम लोग सड़क मार्ग से प्रचार करेंगे। भले ही मेरी पार्टी के अन्य नेता हेलिकॉप्टर से सफर करेंगे, लेकिन मैं सड़क मार्ग से ही प्रचार करूंगा। हमारे सीएम को भी हेलिकॉप्टर छोड़ कर सड़क पर आना चाहिए।’ अपने संबोधन में चिराग पासवान ने कहा कि, ‘मैं प्रधानमंत्री मोदी की विकास की सोच के साथ जुड़ा हूं, ऐसे में महागठबंधन के साथ नहीं जाऊंगा। हम चुनाव के बाद गठबंधन नहीं करते हैं, मैं शुरुआत से ही बीजेपी के साथ हूं।’

घोषणापत्र जारी करते हुए लोजपा अध्यक्ष चिराग पासवान ने कहा, ‘मौजूदा मुख्यमंत्री को देखकर मुझे आश्चर्य होता है कि आप किस तरह से जातीयता को बढ़ावा देते हैं। जो व्यक्ति खुद सांप्रदायिकता को बढ़ावा देता हो, उसके नेतृत्व में बिहार के विकास की कल्पना करना उचित नहीं है।’

चिराग पासवान ने अपने विजन डॉक्यूमेंट में क्या बड़ी बातें कहीं, जानें…

• सरकार बनने पर अलग से प्रवासी मजदूर मंत्रालय। ताकि दूसरे राज्यों में रहने वाले मजदूरों से संपर्क रखा जा सके।
• राज्य में बड़े स्तर पर मेडिकल कॉलेज, इंजीनियरिंग कॉलेज खोलने का वादा, ताकि बिहारी युवा बाहर पढ़ने ना जाए।
• बिहार में अभी स्वास्थ्य की सही सुविधा नहीं है। अस्पतालों में डॉक्टर नहीं है, जबकि नौकरियां खाली पड़ी हैं।
• नदियों को जोड़ने की योजना पर तेजी से काम होना चाहिए, ताकि बाढ़ और सूखे की समस्या दूर हो सके।
• बिहार को विशेष राज्य का दर्जा मिलने के हक में।
• बिहार में इन्वेस्टर्स समिट के जरिए निवेश पर फोकस, लैंड रिफॉर्म पर जोर दिया जाएगा।
• धार्मिक टूरिज्म को बढ़ावा, सीतामढ़ी को अयोध्या के साथ जोड़ा जाए।
बिहार में दूध उत्पादन को बढ़ावा देने के लिए डेनमॉर्क मॉडल अपनाया जाएगा।

आपको बता दें कि पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी ने देश में नदियों को जोड़ने की योजना चलाई थी, जिसे अब मोदी सरकार भी आगे बढ़ा रही है। ऐसे में बार-बार चिराग पासवान अपने संबोधन में पीएम मोदी के विकास की बात करते हैं और अब उन्होंने बिहार में बाढ़ की समस्या का हल निकालने के लिए अटल की उसी योजना को आगे बढ़ानी की बात कही है।

Related posts