क्रिसमस 2019 : ये हैं ईसा मसीह के अनमोल विचार, जो जीवन में हमेशा आएंगे काम

चैतन्य भारत न्यूज

हर साल 25 दिसंबर को क्रिसमस ‘ईसा मसीह’ के जन्मदिन के उपलक्ष में मनाया जाता है। यह ईसाइयों का महत्वपूर्ण त्योहार है। प्रभु यीशु ने सदैव लोगों को दया भावना अपनाकर अहिंसा की राह पर चलने की प्रेरणा दी। उन्‍होंने लोगों को सदैव अच्‍छे कर्मों को अपनाकर बुरे कर्मों को त्‍यागने की प्रेरणा दी। आज हम आपको  बताएंगे ईसा मसीह से जुड़ी कुछ खास बातें।



christmas,christmas 2019,

प्रभु यीशु का जन्म

एक यहूदी बढ़ई की पत्नी मरियम (मेरी) के गर्भ से यीशु का जन्म बेथलेहेम में हुआ। ईसा जब बारह वर्ष के हुए, तो यरुशलम में रुक कर पुजारियों से ज्ञान चर्चा करते रहे। सत्य को खोजने की वृत्ति उनमें बचपन से ही थी। बाइबिल में उनके 13 से 29 वर्षों के बीच का कोई ‍जिक्र नहीं मिलता, ऐसा माना जाता है कि 30 वर्ष की उम्र में उन्होंने यूहन्ना (जॉन) से दीक्षा ली। दीक्षा के बाद वे लोगों को शिक्षा देने लगे।

christmas,christmas 2019,

ये हैं ईसा मसीह के अनमोल विचार

  • ईसा मसीह ने बताया कि लोगों को सिर्फ रोटी के लिए नहीं जीना चाहिए बल्कि भगवान के मुख से निकले हर शब्द की मुताबिक जीना चाहिए।
  • यीशु ने कहा कि, मैं तुम्‍हें एक नया आदेश देता हूं कि एक-दूसरे से प्रेम करो। जैसे मैंने तुमसे प्रेम किया है। एक-दूसरे से प्रेम करो।
  • अगर आप एकदम सही होना चाहते हो तो जाओ अपनी सारी सम्पत्ति को गरीबों मे बांट दो। तुम्हें स्वर्ग का खजाना मिल जाएगा।
  • उस व्यक्ति को भला क्या फायदा, जिसे अगर पूरी दुनिया मिल जाए लेकिन अपनी आत्मा को खोने की पीड़ा सहनी पड़े।
  • यीशु का कहना है कि, मेरा साम्राज्‍य इस संसार में नहीं है। अगर होता तो मेरे सेवक मेरी गिरफ्तारी रोकने के लिए यहूदियों से लड़ते। पर मेरा साम्राज्‍य कहीं और का है।
  • मैं आपको एक सच बताता हूं…एक अमीर व्‍यक्ति के लिए स्वर्ग में प्रवेश करने से आसान काम तो ऊंट का सुई के छेद से निकलना है।

Related posts