7 साल की बच्ची ने शुरू की सिगरेट-तंबाकू छुड़ाने की मुहिम, लोगों से कहती है- 4 दिन हो गए कश नहीं लिया, सिगरेट दो ना…

campaign against cigarette,cigarette effects on body

चैतन्य भारत न्यूज

‘चाचा चार दिन हो गए कश नहीं लिया। दो तीन कश दो ना…’ हृदया नाम की सात साल की बच्ची जब यह कहती है तो सभी लोग उसके चेहरे की ओर ताकने लगते हैं। कुछ लोग तो बच्ची के मुंह से ऐसी बातें सुनकर खुद-ब-खुद सिगरेट फेंक देते हैं। इसके बाद बच्ची उस शख्स को अपने व्हॉट्सएप ग्रुप पर जोड़ती है और फिर शुरू होता है ‘क्विट टोबैको कैंपेन’।

हृदया द्वारा चलाई जा रही इस मुहीम से जुड़कर अब तक 50 लोगों ने तंबाकू का सेवन करना बंद कर दिया है। हृदया ने बताया कि, ‘मेरे चाचा को सिगरेट की वजह से कैंसर हो गया था। उन्हें पता था कि सिगरेट पीना बुरी बात है फिर भी वह बार-बार सिगरेट पीते थे। यह बात मुझे अच्छी नहीं लगती थी। इसके बाद जब मैंने पापा से पूछा कि क्या लोगों को पता है कि सिगरेट से कैंसर होता है। पापा के हां कहने पर मैंने दोबारा उनसे पूछा कि फिर चाचा सिगरेट क्यों पीते हैं। तो उन्होंने कहा कि पता नहीं। मैंने पूछा कि अगर मैं लोगों को मना करूं तो क्या वे सिगरेट नहीं पीएंगे। इसके बाद पापा ने कहा कि तुम्हें कहकर देखना चाहिए।’ बस फिर क्या था इसके बाद हृदया ने लोगों की सिगरेट और तंबाकू की लत छुड़ाने की मुहीम शुरू कर दी।

ह्रदया ने कहा कि, ‘जब भी मैं पान की दुकान पर किसी अंकल को सिगरेट पीते देखती हूं तो उनके पास जाती हूं और उनसे सिगरेट पीने के लिए मांगती हूं। यह सब देखकर वह अपनी सिगरेट गिरा देते हैं फिर मैं उनसे सिगरेट पीने के लिए मना करती हूं। फिर मैं उन्हें अपनी मुहीम  से जोड़ती हूं और उन्हें रोज  व्हॉट्सएप पर सिगरेट छोड़ने के वीडियो भेजती हूं।’

ह्रदया ने कहा कि, ‘जब कोई सिगरेट छोड़ता है, तो मुझे अच्छा लगता है। अभी मैं घर पर ही रहकर पढ़ाई करती हूं। ताकि इस मुहीम में रोजाना ज्यादा वक्त दे सकूं।’ बच्ची द्वारा किए जा रहे इस नेक काम को आगे बढ़ाने के लिए कई लोग उनके व्हॉट्सएप ग्रुप से जुड़े हुए हैं। हृदया का कहना है कि, वह सिगरेट छुड़ाने के लिए लोगों को लगातार 28 दिन तक मैसेज भेजती हैं। हृदया का सपना है कि वह अपने इस ‘क्विट टोबैको कैंपेन’ को और भी आगे लेकर जाए।

Related posts